आगरा. बारिश का मौसम आते ही शहरवासी शिहर उठते हैं. शहर में वर्षो पुरानी जल भराव की समस्या है. हर बार दावे किए जाते हैं कि इस बार शहर में जलभराव नहीं होगा. लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हुआ कि शहर में पानी नहीं भरा हो. शहर में कई ऐसे नाले हैं जो चौक हैं. बारिश के दिनों में नाले उफान भरते हैं. सीवरेज उफान मारते हैं. नगर निगम की इस लापरवाही का लोग अपनी जान देकर चुकाते हैं. लोहामंडी स्थित राजीव नगर का नाला अभी भी चौक है, जो कि लोगों की मुसीबत साबित हो रहा है. शिकायत किए जाने के बाद भी सफाई नहीं हो सकी है.

नहीं होती सिल्ट सफाई

नालों की सफाई के नाम पर अक्सर औपचारिकता निभाई जाती है. लोहामंडी स्थित राजीव नगर का नाला गंदगी से अटा पड़ा है. इसमें नगर निगम के साथ ही क्षेत्रीय लोगों की भी लापरवाही है. जूतों की कटिंग को भी नाले में डाल देते हैं. नाले का पानी सड़क पर आ जाता है. बारिश के दिनों में यहां से निकला तक मुश्किल हो जाता है. सिल्ट तक कभी सफाई नहीं की जाती है. इसके साथ ही नाले की बाउंड्रीबाल पर ध्यान नहीं दिया जाता है. बारिश आने में कुछ ही समय शेष है. क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि बारिश के दिनों में हादसे भी हो सकते हैं.

मेयर का दावा

मेयर नवीन जैन का दावा है कि इस बार शहर जल भराव से मुक्त होगा. इसके लिए अभी से नालों की सफाई का कार्यक्रम तैयार कराया जा रहा है. वैसे भी समय समय पर नालों की सफाई कराई जाती है. नालों की सफाई निरंतर चल भी रही है. बारिश के मौसम तक शहर के सभी नाले साफ करा दिए जाएंगे.

शहर के नाले बने हैं हादसे के कारण

शहर के कई नाले हादसे का कारण बन चुके हैं. अगर समय पर नालों की सफाई नहीं कराई गई तो निश्चित तौर पर फिर से कोई भी हादसा हो सकता है. नालों की बाउंड्रीबाल टूटी पड़ी हैं, जिन्हें ठीक कराया जाना जरूरी है.