- समीक्षा बैठक में सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने दिए कई निर्देश, प्रदेश में पहली बार सिल्ट सफाई की निगरानी के लिए ड्रोन का इस्तेमाल

kanpur@inext.co.in

KANPUR : नहरों की सफाई के लिए शासन से विभाग को साल में करोड़ों को बजट दिया जाता है, लेकिन नहर सफाई के नाम पर बजट की बंदरबाट हो जाती है. इस पर लगाम कसने के लिए सिंचाई विभाग के मंत्री धर्मपाल सिंह ने ड्रोन की निगरानी में नहरों में सिल्ट हटाने का कार्य कराने का फैसला लिया है.

भ्रष्टाचार न होने पाए..

कानपुर में सर्किट हाउस में विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने यह निर्देश दिए. मंत्री ने अधिकारियों से साफ कहा कि सिंचाई विभाग में भ्रष्टाचार न होने पाए, सभी कार्यो को पारदर्शिता के साथ किया जाए. धान की बुआई में पानी की समस्या न हो, इसके लिए नहरों की टेल तक पानी पहुंचाया जाए. सिंचाई विभाग के ट्यूबवेलों में बिजली सप्लाई के लिए लगे खराब ट्रांसफॉर्मरों को फ् दिन के अंदर किसी भी हाल में बदल दिया जाए और इसकी रिपोर्ट भेजे. तय समयसीमा में कार्य न होने पर संबंधित अभियंताओं पर कड़ी कार्यवाही होगी.

----------------

नहरों पर अतिक्रमण होंगे साफ

सिंचाई मंत्री ने कहा कि जल वितरण प्रणाली को और मजबूत करने के लिए नहरों पर हुए अवैध अतिक्रमणों को भी तत्काल हटवाने को कहा. कुलाबा, रजबहा और अल्पिका समिति के गठन के लिए चुनाव की तैयारी फ्क् अक्टूबर तक पूरी करने और दिसंबर तक चुनाव कराने के लिए निर्देशित किया. बैठक में चीफ इंजीनियर विनोद कुमार त्रिपाठी, जेके शर्मा, रामराज, रघवीर शरण सहित विभाग के अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे.