LUCKNOW: हसनगंज के बाबूगंज चौकी के पास कार में खुद को गोली मारकर आत्महत्या करने वाला कांट्रेक्टर ब्लैक मेलिंग से परेशान था. जांच के दौरान पुलिस को उसकी गाड़ी से एक सुसाइड नोट भी मिला है. जिसमें उसने आत्महत्या का कारण ब्लैक मेलिंग बताया है. वहीं मृतक के परिजनों ने तथाकथित प्रेमिका पर हत्या का आरोप लगाया है. पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है. युवती के मोबाइल की डिटेल खंगाली जा रही है. कांट्रेक्टर के मोबाइल पर हादसे से पहले एक युवती ने फोन भी किया था.

गाड़ी लॉक कर खुद को मारी थी गोली

गोसाईगंज निवासी रघुराज सिंह वर्मा का बेटा करन सिंह वर्मा (32) सिविल कांट्रेक्टर था. उसके परिवार में पत्नी अनसुईया और दो बच्चे साक्षी व सिद्धात हैं. करन अपने पिता रघुराज, मां सरस्वती, बहन मधु और छोटे भाई दीपक के साथ दहिरामऊ गांव में रहता था. बुधवार को करन अपनी स्विफ्ट कार से हसनगंज के बाबूगंज चौकी के पास गया था. कार रोड किनारे खड़ी थी कि अचानक उसमें गोली चलने की आवाज आस-पास के लोगों को सुनाई दी. स्थानीय लोगों की सूचना पर हसनगंज पुलिस और सीओ महानगर मौके पर पहुंचे. सीओ अनुराग सिंह ने बताया कि करन ने कार का डोर लॉक करने के बाद 315 बोर के तमंचे से कनपटी में सटाकर गोली मारी थी. पुलिस गाड़ी का शीशा तोड़ने के बाद उसे ट्रामा सेंटर लेकर गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

कार में मिला मृतक का सुसाइड नोट

सीओ महानगर अनुराग सिंह ने बताया कि कार की छानबीन में एक सुसाइड नोट मिला. सुसाइड नोट करन ने लिखा था. सुसाइड नोट में उसने लिखा था कि डालीगंज में रहने वाली एक युवती ने उससे दोस्ती की और फिर अपने प्यार के जाल में फंसा लिया. युवती ने उसके साथ कई आपत्तिजनक वीडियो और तस्वीर भी बनाई थी. उसी के आधार पर वह लगातार उसे ब्लैक मेल कर रही थी. युवती ने एक करोड़ की डिमांड की थी. वह युवती को 29 लाख रुपये दे चुका था. उसके बाद भी वह वीडियो और फोटो वायरल करने के साथ रेप केस में फंसाने की धमकी दे रही थी.

सुसाइड से पहले देखी गई थी युवती

पुलिस की जांच पड़ताल में सामने आया कि करन ने जहां अपनी कार में सुसाइड किया था, उससे कुछ मिनट पहले ही एक युवती और युवक देखे गए थे. युवती को कार में बैठकर करन से बात-चीत करते हुए भी देखा गया था. सुसाइड नोट में करन ने युवती का नाम और पता भी लिखा है. जिसके आधार पर पुलिस जांच पड़ताल कर रही है. पुलिस का कहना है कि करन के मोबाइल फोन में युवती की काल भी मिली है. जिससे साफ है कि करन से अंतिम बार बात उसी युवती की हुई थी.

मकान बनवाने के दौरान हुई थी दोस्ती

करन सिविल कांट्रेक्टर था और वह मकान बना था. पुलिस का कहना है कि डालीगंज में रहने वाली जिस युवती का नाम प्रकाश में आया है उसके पिता हेल्थ डिपार्टमेंट में कार्यरत हैं. करीब एक साल पहले उन्होंने अपना मकान करन से बनवाया था. उसी दौरान करन की मुलाकात उस युवती से हुई थी और दोनों के बीच दोस्ती हो गई थी. उधर, सूचना पर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे करन के पिता रघुराज ने हत्या का आरोप लगाया है. उसके अंतिम संस्कार के बाद वह हसनगंज थाने में हत्या की तहरीर देकर केस दर्ज कराएंगे.

Crime News inextlive from Crime News Desk