क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : दीपक झा रांची स्थित एक फर्नीचर दुकान में सेल्स मैन का काम करता था. इस शोरूम में गबन का मामला उजागर हुआ था. कंपनी के प्रोपराइटर को शक था कि इसमें दीपक का हाथ है. ऐसे में उसने पहले दीपक को जमकर डांट पिलाई थी, फिर उसे मारा भी था. तीन दिन पहले की इस घटना को लेकर उसने दीपक को लोअर बाजार थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने की भी धमकी दी थी. उसने दीपक को सोमवार को ऑफिस आने को कहा था, लेकिन दीपक काफी डरा-सहमा था. इस कारण वह ऑफिस नहीं गया और घर में ही पत्नी के अलावा माता-पिता और दो मासूम बच्चों को मारकर अपने भाई के साथ खुदकुशी कर ली. मरने के पहले उसने लिखे सुसाइड नोट में इस मामले का भी जिक्र किया है. पुलिस ने रूपेश के पास से भी चार पन्नों का एक पत्र मिला है. उसमें कर्ज से संबंधित बात लिखी गई है.

कंपनी के ओनर से होगी पूछताछ

दीपक झा द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट की पुलिस तहकीकात कर रही है. डीआईजी एवी होमकर ने बताया कि इसमें उसने गोदरेज कंपनी के ओनर द्वारा टार्चर किए जाने की बात लिखी है. ऐसे में पुलिस उसे बुलाकर भी पूछताछ करेगी, ताकि घटना के वजहों पर से पर्दा उठ सके.