03

सप्ताह की होगी प्रथम व दूसरे चरण की ट्रेनिंग

02

हफ्ते दी जाएगी तीसरे चरण में जवानों को ट्रेनिंग

01

सप्ताह की ट्रेनिंग चौथे चरण में जवानों को देगा विभाग

चौथे चरण की ट्रेनिंग के बाद आने वाले जवानों की नहीं लगेगी कुंभ में ड्यूटी

ट्रेनिंग में शामिल होने वाले पुलिस के जवानों को ही मेला में तैनात करेगा विभाग

ALLAHABAD: बगैर ट्रेनिंग के पुलिस का कोई भी जवान कुंभ मेला में ड्यूटी नहीं कर सकेगा. कुंभ मेला में उसी जवान की ड्यूटी लगाई जाएगी जो ट्रेनिंग में शामिल होगा. चरणबद्ध तरीके से दी जाने वाली ट्रेनिंग का टॉरगेट विभाग ने फिक्स कर लिया है. मेला ड्यूटी के लिए आगमी 15 दिसंबर से जवानों के आने का सिलसिला शुरू हो जाएगा. ट्रेनिंग में उन्हें अधिकारी श्रद्धालुओं से बातचीत करने का सलीका जैसे तमाम टिप्स देंगे.

चार चरणों में होगी ट्रेनिंग

अगले वर्ष प्रयाग में लगने जा रहे कुंभ मेला में सुरक्षा के लिए 50 हजार से अधिक जवान तैनात किए जाएंगे. इनमें अधिकारी व सिपाही मिला कर तकरीबन 1500 महिला सुरक्षा कर्मी लगाए जाएंगे. अफसरों की मानें तो मेला में किसी भी जवान की ड्यूटी बगैर ट्रेनिंग के नहीं लगाई जाएगी. जिले के हों या बाहर से आने वाले जवान, सभी को ट्रेनिंग दिए जाने का टॉरगेट फिक्स कर लिया गया है. प्रथम व द्वितीय चरण में तीन-तीन सप्ताह की ट्रेनिंग दी जाएगी. इसके बाद तीसरे चरण में दो और अंतिम व चौथे चरण में मात्र एक सप्ताह की ट्रेनिंग होगी.

बाक्स

एटीट्यूट बेस्ड होगी ट्रेनिंग

मेला में आए श्रद्धालुओं से बात करने का तरीका

श्रद्धालुओं के रास्ता पूछने पर उन्हें समझाने की विधि

भीड़ बढ़ने पर कंट्रोल करने का कारगर तरीका

कुंभ मेला में घाटों पर सुरक्षा के विशेष तरीके

आग लगने पर उसे तत्काल कंट्रोल करने का इल्म

खोए हुए बच्चों से बात करने का इंसानियत पूर्ण तरीका

बाक्स

..तो वापस कर दिए जाएंगे जवान

चौथे चरण की ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद आने वाले जवानों की ड्यूटी कुंभ मेला में नहीं लगाई जाएगी. देर से आने का कारण जिस जिले में वे तैनात होंगे वहां के अधिकारियों से पूछा जाएगा. यदि किन्हीं कारणों से रिलीविंग में दिक्कत हुई होगी तो ठीक, नहीं तो कार्रवाई के लिए संबंधित जवान के अधिकारी को पत्र लिखा जाएगा.

वर्जन

कुंभ मेला में ट्रेनिंग तो सभी को दी जाएगी. वह चाहे एक सप्ताह की ही क्यों न हो. चौथे चरण की ट्रेनिंग समाप्त होने के बाद आने वालों की पड़ताल कराई जाएगी. यदि वह समय से रिलीव होने के बावजूद ट्रेनिंग में शामिल नहीं हो पाते तो कार्रवाई के लिए उनके अधिकारी को लिखा जाएगा.

कविंद्र प्रताप सिंह, पुलिस उप महानिरीक्षक कुंभ