- भूकंपरोधी घरों के निर्माण के लिए हर ब्लॉक में 30 राजमिस्त्री किये जाएंगे ट्रेंड

- मास्टर ट्रेनर के रूप में ट्रेंड होने के बाद दूसरे मिस्त्रियों को देंगे ट्रेनिंग

- पहला ट्रेनिंग कैंप विकासनगर में 14 मई होगा आयोजित

देहरादून, राज्य के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में बनने वाले हर नये भवन को भूकम्परोधी बनाने की कवायद शुरू की जा रही है. इसमें सरकारी भवनों के साथ ही सभी छोटे-बड़े घर शामिल हैं. यह कवायद सबसे पहले देहरादून जिले में शुरू की जा रही है. भूकंपरोधी घरों के निर्माण के लिए राजमिस्त्रियों को ट्रेंड किया जाएगा, ट्रेनिंग के लिए हर ब्लॉक से 30 राजमिस्त्रियों को चुना जाएगा.

पहला ट्रेनिंग कैंप 14 से

राजमिस्त्रियों के लिए पहला 7 दिवसीय का ट्रेनिंग कैंप 14 मई को विकासनगर में शुरू किया जा रहा है. इसके लिए विभिन्न गांवों के 30 राजमिस्त्रियों की लिस्ट फाइनल कर दी गई है. इन राजमिस्त्रियों को ट्रेनिंग के दौरान खाने और रहने की व्यवस्था के साथ मानदेय भी दिया जाएगा. ट्रेंड राजमिस्त्री अपने गांव और आस-पास के मिस्त्रियों को ट्रेंड करेंगे.

डेमों यूनिट का होगा निर्माण

7 दिन की इस ट्रेनिंग के दौरान भूकंपरोधी तकनीकी की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग देने के लिए एक डेमो यूनिट का भी निर्माण किया जाएगा. यह डेमो यूनिट 12 गुणा 12 फीट का एक कमरा होगा. बाद में इसका इस्तेमाल सरकारी कार्यो के लिए किया जाएगा.

सभी ब्लॉक्स में ट्रेनिंग

विकासनगर ब्लॉक में पहली ट्रेनिंग के बाद जिले के बाकी सभी ब्लॉक्स में भी राजमिस्त्रियों को ट्रेनिंग दी जाएगी. शहरी क्षेत्रों में भी लोगों को इस तरह के भवन निर्माण के लिए प्रेरित किया जाएगा. हालांकि शहरी क्षेत्र में इस तरह की ट्रेनिंग को लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है.

भूकंप के लिहाज से सेंसिटिव प्रदेश

उत्तराखंड भूकंप और भूस्खलन के लिहाज से काफी संवेदनशील है. बरसात में भूस्खलन की काफी घटनाएं यहां होती हैं. भूकंप की कई घटनाएं पिछले वर्षो में सामने आई हैं. इन संभावित आपदाओं को देखते हुए हर घर भूकंपरोधी हो, ये कवायद शुरू की जा रही है. ताकि, नुकसान का दायरे में कमी लाई जा सके.

-----------

भूकंप का पूर्वानुमान संभव नहीं है. इससे बचने का एक ही तरीका है कि भूकंप से होने वाले नुकसान को कम से कम करने के प्रयास किये जाएं. भूकम्परोधी मकानों का निर्माण इसी दिशा में एक दीर्घकालीन योजना है.

-दीपशिखा रावत, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी.