- उत्तराखंड में वर्तमान में संचालित हो रहे हैं 6 भूकंप मापक यंत्र

- देशभर में लगाए जाने हैं 31 भूकंप मापक यंत्र

DEHRADUN: पूरे देश में लगाए जा रहे फ्क् भूकंप मापक यंत्रों में से एक उत्तराखंड में लगने जा रहा है. सूबे के रुद्रप्रयाग जिले में ये भूकंप मापक यंत्र लगाया जाएगा. वर्तमान में राज्य में म् भूकंप मापक यंत्र अलग-अलग जगह लगाए गए हैं. रुद्रप्रयाग में एक और भूकंप मापक यंत्र लगने के बाद इनकी संख्या 7 हो जाएगी.

लगातार आ रहे भूकंप

भूकंप के लिहाज से उत्तराखंड जोन चार और पांच में रखा गया है. यहां अक्सर भूकंप आते हैं और रुद्रप्रयाग की ही बात करें तो पिछले दो महीने में यहां तीन से ज्यादा बार भूकंप आ चुका है. इसे लेकर मुख्य सचिव एस रामास्वामी की ओर से एक पत्र महानिदेशक मौसम विज्ञान केंद्र को भेजा गया था. पत्र में महानिदेशक मौसम विज्ञान केंद्र से उत्तराखंड में भूकंप पर नजर रखने के लिए एक अतिरिक्त नेटवर्क देने का अनुरोध किया गया था. इस कड़ी में राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र ने मुख्य सचिव को प्रदेश में नए भूकंप मापक केंद्र खोले जाने के संबंध में जानकारी दी है. बताया गया है कि राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र की ओर से देश भर में 8ब् भूकंप मापक केंद्र स्थापित किए गए हैं. इनमें से पांच उत्तराखंड के लोहाघाट, पिथौरागढ़, जोशीमठ, कालागढ़ और देहरादून में स्थापित किए गए हैं. एक केंद्र उत्तरकाशी में भी बनाया जा रहा है. इन केंद्रों से रिक्टर स्केल पर तीन व इससे अधिक की तीव्रता की जानकारी तुरंत मिल जाती है. बताया गया है कि रुद्रप्रयाग में आए भूकंप के बाद राष्ट्रीय भूभौतिकीय अनुसंधान संस्थान यहां एक अतिरिक्त केंद्र स्थापित करने जा रहा है ताकि भूकंप के केंद्र के आसपास के क्षेत्राें पर नजर रखी जा सके.