इसीसी की प्रबंध समिति ने लिया निर्णय, कहा अल्पसंख्यक संस्था हैं अपनी मान्यता के अनुरूप ही चलेंगे

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: यूइंग क्रिश्चियन कॉलेज ने शहीद भगत सिंह की प्रतिमा को स्थापित करने की मांग को खारिज कर दिया है. यह निर्णय कॉलेज की प्रबंध समिति ने आपातकालीन बैठक में लिया है. निर्णय के पीछे कई महत्वपूर्ण कारण बताये गये हैं. बता दें कि इविवि में बीते शुक्रवार को छात्रसंघ अध्यक्ष गोपाल पांडेय समेत अन्य पदाधिकारियों के नेतृत्व में छात्रों ने शहीद की प्रतिमा को स्थापित करने के लिये जमकर बवाल काटा था.

पवित्र बाइबिल का दिया हवाला

प्रबंध समिति के निर्णय की कांपी प्रिंसिपल डॉ. एम. मैसी द्वारा जारी की गई है. जिसमें पवित्र बाइबिल का हवाला देते हुये कहा गया है कि महाविद्यालय में किसी महापुरूष या अन्य किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति की मूर्ति स्थापित नहीं की गई है. क्योंकि यह कॉलेज के मूल स्थापना की आस्था के प्रतिकूल है. बताया गया है कि ईसीसी एक अल्पसंख्यक संस्था है. जिसे संविधान प्रदत्त अधिकार दिये गये हैं. जिससे वह अपनी मान्यता के अनुरूप संस्था चला सके.

सम्मान के लिये हैं प्रतिबद्ध

प्रबंध समिति के सभी सदस्य इस बात से सहमत हैं कि भारतीय शहीदों तथा महापुरूषों के प्रति समय-समय पर श्रद्धान्जलि व सम्मान व्यक्त किया जाये. परन्तु यह सम्मान संगोष्ठियों, सभाओं आदि आयोजनो के माध्यम से व्यक्त किया जाये. निर्णय में कहा गया है कि कॉलेज के प्रिंसिपल को व्यक्तिगत स्तर पर निर्णय लेने का कोई अधिकार नहीं है. बैठक की कार्रवाई को लखनऊ डायसिसियन ट्रस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष को अग्रसारित किया जायेगा. डॉ. एम. मैसी ने बताया है कि कॉलेज की सम्पूर्ण जमीन और सम्पत्ति ट्रस्ट के अधीन है. प्रबंध समिति के अधिकार क्षेत्र में नहीं है कि कॉलेज की जमीन पर कोई स्थाई या अस्थाई निर्माण के लिये स्वीकृति प्रदान की जाये.

प्रशासन से मांगा सहयोग

प्रबंध समिति ने विश्वास व्यक्त किया है कि छात्रसंघ के पदाधिकारी एवं अन्य छात्र निर्णय का सम्मान करेंगे तथा कॉलेज परिसर में पठन-पाठन, परीक्षाओं एवं प्रशासनिक कार्यो में सहयोग करेंगे. कॉलेज में परीक्षाओं का आयोजन 20 मार्च से होना है. इसमें हंगामें और व्यवधान के आसार को देखते हुये जिला प्रशासन से सहयोग की अपील की गई है.