वाराणसी संसदीय सीट पर मतदान के अगले दिन कुछ कैंडिडेट्स रहे बिजी तो कुछ रहे रिलैक्स

लगभग सभी के यहां जुटे रहे समर्थक, वोटिंग सहित काउंटिंग पर होती रही चर्चा

<वाराणसी संसदीय सीट पर मतदान के अगले दिन कुछ कैंडिडेट्स रहे बिजी तो कुछ रहे रिलैक्स

लगभग सभी के यहां जुटे रहे समर्थक, वोटिंग सहित काउंटिंग पर होती रही चर्चा

VARANASI

VARANASI

लोकसभा चुनाव की वोटिंग रविवार को खत्म होने के बाद सोमवार को वाराणसी संसदीय सीट के कैंडिडेट्स सहित पार्टी कार्यकर्ता वोटों की गुणा गणित में जुटे रहे। सोमवार सुबह से ही कार्यकर्ता घर से लेकर अलग-अलग जगहों पर चुनावी हिसाब-किताब का आकड़ा लगाते रहे। विभिन्न एरिया में स्थित अडि़यों, चाय की दुकान, रेस्टोरेंट या फिर ढाबा, हर जगह समर्थकों के बीच हार-जीत को लेकर बहस होती दिखी। बीच-बीच में लोग सरकार बनाने के लिए एग्जिट पोल पर भी चर्चा करते रहे। कई ने परिवार संग ही पूरा दिन बिताया। दूसरी ओर काउंटिंग की तैयारियों पर भी संगठन के लोग कसरत करते रहे।

सभी वर्ग ने दिया वोट

कांग्रेस कैंडिडेट के घर पर सुबह से ही संसदीय क्षेत्र के विभिन्न एरिया से समर्थक जुटने लगे। सभी ने अपने अपने एरिया में हुई वोटिंग की जानकारी दी। इस दौरान अजय राय ने कहा कि कांग्रेस ने इस चुनाव में काफी बेहतर प्रदर्शन किया। हर क्षेत्र में हर वर्ग का वोट मिला है। पूरे पांच साल पब्लिक के बीच में रहने का नतीजा रहा कि लोगों ने मुझ पर और पार्टी पर विश्वास जताया है।

बच्चों संग बीता समय

सपा-बसपा गठबंधन कैंडिडेट ने मतदान के दौरान विभिन्न बूथ पर मशीनों में आयी गड़बड़ी पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार वाराणसी की सभी पोलिंग बूथों पर गठबंधन के नेता व कार्यकर्ताओं बड़ी जिम्मेदारी से वोट दिलाने का काम किया वह काबिले तारिफ है। चुनाव खत्म होने के बाद सपा की प्रत्याशी शालिनी यादव ने अपने परिवार संग समय बिताया।

अगले कदम पर होती रही चर्चा

देश के सबसे चर्चित लोकसभा सीट वाराणसी से पीएम नरेंद्र मोदी के लिए चुनाव प्रचार के साथ ही बूथ स्तर पर कार्य करने के बाद पदाधिकारी और कार्यकर्ता सोमवार को राहत में नजर आए। एक्जिट पोल में रुझान पक्ष में आता देख पूरे दिन जगह-जगह चर्चा होती रही। नेताओं और पदाधिकारियों के घरों पर भी सुबह से देर शाम तक लोग अगले कदम की तैयारी में मशगूल रहे।

जीत से हार तक लगने लगा पैसा

बनारस में वोटिंग सकुशल समाप्त होने के बाद अब पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता और आम मतदाता अपने-अपने समर्थक प्रत्याशियों के जीत-हार के दावे करने में लगे रहे। प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम में कैद हो गए हैं। इसका फैसला आगामी ख्फ् मई को पहडि़या मंडी में होने वाली काउंटिंग में होगा, लेकिन बूथों पर मतदाताओं के रुझान से उत्साहित प्रत्याशियों के समर्थक अपनी जीत के दावे करते हुए अपने-अपने तर्क दे रहे हैं। इस बीच लोग कैंडिडेट्स के हार जीत पर सट्टा लगाने में भी दिलचस्पी दिखा रहे हैं।