- महानगर अध्यक्ष से अधिक जिलाध्यक्ष के लिए दावेदारों ने ठोंकी ताल

- लोकसभा चुनाव से पहले संगठन को मजबूत करना चाहती है पार्टी

आगरा. भाजपा में संगठन के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. इसके लिए दावेदारों ने दावेदारी शुरू कर दी है. पैनल में नाम भिजवाने के लिए कोर कमेटी के संभावित सदस्यों की गणेश परिक्रमा शुरू हो गई है. उप चुनाव के चलते प्रक्रिया में थोड़ी देरी जरूर हुई है, लेकिन अब जल्द ही प्रक्रिया शुरू होगी.

इनके लिए कोर कमेटी भेजेगी नाम

महानगर अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष महिला मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा, पिछड़ा मोर्चा, अनुसूचित मोर्चा और युवा मोर्चा के अध्यक्षों के पदों पर चुनाव होना है. इसके लिए कोर कमेटी से जिलास्तर पर और जिलास्तर से कमेटी बृज क्षेत्र कार्यालय, यहां से पैनल लखनऊ के लिए भेजा जाएगा. वहां से अंतिम निर्णय लिया जाना है. पैनल में नाम जा सके, इसके लिए जिले स्तर की कोर कमेटी के सदस्य सांसद, विधायक, संगठन के दावेदार चक्कर काट रहे हैं. इन सदस्यों की अहम भूमिका होगी.

जिलाध्यक्ष के हैं सर्वाधिक दावेदार

जिलाध्यक्ष पद के लिए सर्वाधिक करीब 15 दावेदार हैं. वहीं, महानगर अध्यक्ष के करीब पांच से छह दावेदार हैं. अब तक देखने में आया है कि महानगर अध्यक्ष पद के लिए जिलाध्यक्ष पद के लिए दावेदारों से अधिक संख्या होती थी, लेकिन इस बार उल्टा हो गया है. इस बार महानगर से करीब करीब तीन गुनी जिलाध्यक्ष पद के लिए दावेदारों की संख्या है.

चुनाव होना तो बंद ही हुए

कार्यकर्ताओं के बीच यह भी चर्चा है कि जिलाध्यक्ष और महानगर अध्यक्ष के नाम उस तरीके से तय नहीं होते, जो पार्टी का संविधान है. चुनाव होना तो बंद ही हो गया है. ऊपर से थोपा जाता है, जिसे हर हाल में पार्टी कार्यकर्ताओं को स्वीकार ही करना पड़ता है. इस प्रक्रिया में गणेश परिक्रमा करने वाले नेता हाथ मार ले जाते हैं. वहीं, क्षेत्र में लोगों के बीच में रहने वाले नेता पद पाने में पिछड़ जाते हैं. इससे पार्टी का एक वर्ग भी खफा भी है.

जातीय समीकरण बिठाने की कोशिश

लोकसभा चुनाव को देखते हुए संगठन का चुनाव होना है. संगठन में सभी वर्गो को स्थान देने के कवायद चल रही है. सर्वाधिक मारामारी जिलाध्यक्ष पद को लेकर चल रही है.