ग्रामीण एरिया में बराबरी की टक्कर दी तो शहर में पिछड़ीं

prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: लोकसभा चुनाव के लिए वोटिंग में महिलाएं पुरुषों से कम नही रहीं। उन्होंने कंधे से कंधा मिलाकर वोट दिए। ग्रामीण एरिया में वह घर से बाहर निकली तो शहरी इलाकों में उनकी दावेदारी कम रही। आंकड़ें इसकी गवाही दे रहे हैं।

फाफामऊ-सोरांव में निकली आगे
फूलपुर लोकसभा के फाफामऊ विधानसभा में महिलाओं ने पुरुषों से अधिक वोटिंग की। सोरांव में भी वह पुरुषों से दो फीसदी आगे रहीं। फूलपुर में बराबरी रहीं तो शहर पश्चिमी और उत्तरी में पुरुषों ने उनसे बढ़त ले ली।

विधानसभा पुरुष वोटिंग प्रतिशत महिला वोटिंग प्रतिशत
फाफामऊ 52.55 53.59

सोरांव 54.03 56.01

फूलपुर 55.86 55.42

शहर पश्चिमी 44.89 39.36

शहर उत्तरी 39.72 38.08

कुल प्रतिशत 49.01 47.95

मेजा और कोरांव में दिखाया दम

इलाहाबाद लोकसभा में मेजा विधानसभा में महिलाएं पुरुषों से दो फीसदी वोंटिंग के साथ आगे रहीं। कोरांव में उन्होंने बराबरी की टक्कर दी। बारा में भी एक फीसदी से कम रहीं। करछना और शहर दक्षिणी की महिलाएं वोट डालने को घर से कम निकली।

विधानसभा पुरुष वोटिंग प्रतिशत महिला वोटिंग प्रतिशत
मेजा 52.17 54.08

करछना 56.21 53.06

इलाहाबाद दक्षिणी 42.65 37.37

बारा 57.49 56.31

कोरांव 56.30 56.13

कुल प्रतिशत- 52.55 50.82

भदोही आंशिक में पुरुषों को पछाड़ा
भदोही लोकसभा में शामिल जिले की हंडिया और प्रतापपुर विधानसभा का प्रदर्शन जोरदार रहा। यहां महिलाओं ने पुरुषों की अपेक्षा चार फीसदी अधिक वोटिंग की।

विधानसभा पुरुष वोटिंग प्रतिशत महिला वोटिंग प्रतिशत

प्रतापपुर 49.56 55.41

हंडिया 48.56 54

कुल प्रतिशत- 49.06 54.71

दोहरा नही सकीं विधानसभा चुनाव का प्रदर्शन
पूरे जिले का आकलन किया जाय तो महिलाएं 2017 विधानसभा चुनाव का प्रदर्शन दोहरा नही सकीं। तब चुनाव में उन्होंने पुरुषों को चार फीसदी से पटखनी दी। इस चुनाव में 56.29 फीसदी महिलाओं ने वोट दिए थे। इस चुनाव में भी महिलाओं का शहरी विधानसभाओं में प्रदर्शन अच्छा नहीं था।