16 लाख गांवों को कुंभ का आमंत्रण, फरवरी में आएंगे 192 देशों के प्रतिनिधि

कुंभ के दौरान एक-एक मिनट की बिजली का रखा जा रहा हिसाब

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: कैबिनेट मंत्री ऊर्जा एवं प्रदेश सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कुंभ मेला के प्रथम शाही स्नान से दो दिन पूर्व प्रयागराज पहुंच कर मेला व्यवस्था का जायजा लिया. मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने पहली बार प्रयागराज में कुंभ के दौरान सबसे बेहतर व्यवस्था किए जाने का दावा किया.

पूर्व की सरकारों में नहीं थी इच्छाशक्ति

मीडिया सेंटर में ऊर्जा मंत्री ने कहा कि देश भर के 16 लाख गांवों को कुंभ का निमंत्रण भेजा गया है. पहली बार प्रयागराज में आने वाले करोड़ों श्रद्धालुओं के लिए हर सुख सुविधा का पूरा ध्यान रखा गया है. विद्युत आपूर्ति की इस तरह व्यवस्था की गई है कि एक मिनट के लिए भी विद्युत आपूर्ति बाधित न होने पाए. अगर किन्हीं कारणों से विद्युत कनेक्शन बाधित होता है तो जेनरेटर की व्यवस्था की गई है. एक-एक मिनट की विद्युत आपूर्ति का हिसाब रखा जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयास से बेहतर इंतजाम किए गए हैं. पहली बार अक्षयवट का दर्शन कुंभ के दौरान लोगों को हो रहा है. क्योंकि अन्य सरकारों में इस तरह की इच्छा शक्ति नहीं थी.

ये की गई हैं तैयारियां

- 3200 हेक्टेक्यर क्षेत्र में बसाया गया दुनिया का सबसे बड़ा मेला

- 300 करोड़ का बजट बिजली विभाग ने किया खर्च

- 1200 किलोमीटर एरिया में बिछाया गया कनेक्शन

- 2.80 लाख विद्युत कनेक्शन दिए गए मेला में

- 30-35 हजार पुलिस कर्मी संभालेंगे सुरक्षा की जिम्मेदारी

- 5000 प्रवासी भारतीय पहुंचेंगे प्रयागराज

- 500 शटल बस व 500 ई-रिक्शा चलाए जा रहे हैं

- 192 देशों के राजदूत फरवरी में आएंगे