JAMSHEDPUR: इस भीषण गर्मी में शहर के गैर कंपनी इलाकों के लोग बिजली संकट की वजह से रतजगा कर रहे हैं। जिले को कुल 205 मेगावाट बिजली चाहिए। लेकिन, अभी 150 मेगावाट के आसपास ही सप्लाई हो रही है। इस वजह से रात को शास्त्रीनगर, मानगो, बिरसानगर, छोटा गोविंदपुर, बागबेड़ा, जुगसलाई, करनडीह आदि इलाकों में खूब बिजली कटौती हो रही है। बिजली गुल हो जाने से लोगों की नींद उचट जाती है। बिजली की कमी के अलावा फाल्ट के चलते भी दिक्कत आ रही है।

कम मिल रही बिजली

शहर के जमशेदपुर डिवीजन को 54 मेगावाट बिजली चाहिए। दिन में तो आपूर्ति सामान्य होती है लेकिन, रात में कम बिजली मिल रही है। रात में इस इलाके में 40 मेगावाट के आसपास बिजली मिल रही है। इस वजह से जुगसलाई, छोटा गोविंदपुर, सरजामदा, बागबेड़ा, बिरसानगर आदि इलाके में बिजली कटौती हो रही है। छोटा गोविंदपुर के राकेश कुमार बताते हैं कि अक्सर रात भर बिजली गायब हो जाती है। यहीं के संजय सिंह बताते हैं कि सोमवार की रात तीन घंटे बिजली कटौती से लोग सो नहीं सके। यही हाल, जुगसलाई का भी है। यहां भी रात की बिजली कटौती लोगों पर भारी पड़ रही है। जुगसलाई के मो। नसीम बताते हैं कि इधर दो दिन से जुगसलाई में बिजली आपूर्ति कुछ ठीक है। वरना यहां बिजली का हाल बेहद खराब था। रात को अनियमित बिजली कटौती होती थी। यही हाल, मानगो का है। मानगो डिवीजन को 91 मेगावाट बिजली चाहिए। लेकिन, रात को 70 मेगावाट के करीब ही बिजली मिल रही है। इससे लोड शेडिंग खूब हो रही है। यही नहीं, अक्सर फाल्ट के चलते भी दिक्कत होती है।

सड़कों पर अंधेरा

मानगो के कुंवरबस्ती पावर सबस्टेशन से जुड़े इलाके में काफी दिक्कत हो रही है। इस इलाके में रात में अक्सर बिजली गुल रहती है। अक्सर शाम को सात बजे से रात के 11 बजे तक बिजली गायब रहने से लोग परेशान हो जाते हैं। उनकी शाम को खाने-पीने की दिनचर्या प्रभावित होती है। बिजली कटौती से राहगीरों को भी दिक्कत आती है। मानगो की स्ट्रीट लाइट बुझने से सड़कों पर अंधेरा रहता है। जिले के ग्रामीण इलाकों यानि घाटशिला डिवीजन को 60 मेगावाट बिजली चाहिए। लेकिन, अभी यहां 40 मेगावाट के आसपास बिजली मिल रही है। इस वजह से बिजली कटौती की जा रही है। ग्रामीण इलाकों में सबसे ज्यादा बिजली कटौती हो रही है।

बिजली आपूर्ति सामान्य है। लेकिन, गर्मी में लोड बढ़ने से दिक्कत हो रही है। अक्सर फाल्ट के चलते भी बिजली कट जाती है। झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड हालात ठीक कर रहा है।

गौरव कुमार, कार्यपालक अभियंता, जेबीवीएनएल