ब्राजील की नेशनल नैनोटेक्नोलाजी लेबोरेटरी ने ढूंढा तरीका
ब्राजील स्थित नेशनल नैनोटेक्नोलाजी लेबोरेटरी के शोधकर्ताओं ने इस डिवाइस को विकसित किया है। इस लेबोरेटरी के फंक्शनल डिवाइस एंड सिस्टम लैब के हेड कार्लोज सीजर बोफ बफन ने कहा यह इस तरह के जटिल रोगों के मोलीक्यूल की झटपट पहचान कर सकता है। इस सुरक्षित और किफायती तरीके में नैनोमीटर-स्केल सिस्टम का उपयोग किया गया है।

आर्गेनिक ट्रांजिस्टर टेक्नोलाजी का हुआ इस्‍तेमाल
शोधकर्ताओं के अनुसार बायोसेंसर नमूने में निम्न स्तर पर भी मोलीक्यूल होने पर उनका पता लगा सकता है। इसके लिए पहली बार आर्गेनिक ट्रांजिस्टर टेक्नोलाजी का इस्तेमाल किया गया है। इस सिस्टम को दूसरी बीमारियों का पता लगाने में भी अपनाया जा सकता है। शोधकर्ताओं की टीम अब पेपर आधारित बायोसेंसर विकसित करने पर काम कर रही है। इससे लागत में और कमी आने के साथ ही ज्यादा सटीक जानकारी मिल सकेगी।

inextlive from News Desk