- विधानसभा सत्र के दौरान सेवायोजन मंत्री ने दी जानकारी, सरकार कर चुकी तैयारी पूरी

- वर्तमान में सिर्फ बेरोजगारों के रजिस्ट्रेशन तक सीमित है सेवायोजन विभाग

देहरादून, बेरोजगारों के रजिस्ट्रेशन कराने तक सीमित सेवायोजन विभाग अब बेरोजगारों को नौकरी दिलाने के प्लेटफॉर्म के रूप में काम करेगी. उपनल की तर्ज पर विभाग को आउटसोर्स एजेंसी बनाने की सरकार ने तैयारी कर ली है. इसके अतिरिक्त पीएम स्किल डेवलपमेंट स्कीम की जिम्मेदारी भी सेवायोजन विभाग की सौंपी गई है, सेवायोजन अधिकारियों को स्कीम का नोडल अफसर बनाया गया है.

रोजगार मेले होंगे आयोजित

विधानसभा सत्र के दौरान विधायक विनोद चमोली द्वारा किए गए एक सवाल के जवाब में सेवायोजन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने जानकारी दी कि अब सेवायोजन विभाग उपनल की तर्ज पर आउटसोर्स एजेंसी बनाया जाएगा. सरकार ने इसकी तैयारियां पूरी कर ली हैं. विधायक विनोद चमोली ने सदन में सेवायोजन विभाग के वर्तमान ढांचे व औचित्य पर सवाल उठाया था. विभागीय मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि यूपी के दौरान जिला कॉडर की भर्तियों के लिए सेवायोजन से नाम मांगे जाते थे. लेकिन, बाद में यह व्यवस्था बंद कर दी गई और सेवायोजन विभाग महज बेरोजगारों के रजिस्ट्रेशन करने वाली एक संस्था बनकर रह गई. लेकिन, अब सरकार ने तय किया है कि सेवायोजन विभाग रजिस्ट्रेशन के साथ ही बेरोजगारों को रोजगार देने वाली एजेंसी की तरह काम करे. इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. बताया कि भविष्य में विभाग द्वारा 3-4 ब्लॉक में साझा रोजगार मेले आयोजित कराए जाएंगे, जिनमें युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया कराए जाएंगे.

उपनल से सिर्फ पूर्व सैनिक आश्रितों को रोजगार

सेवायोजन मंत्री ने कहा कि उपनल आउटसोर्स एजेंसी द्वारा सिर्फ पूर्व सैनिकों के आश्रितों को ही रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा. इस कैटेगरी के अतिरिक्त बेरोजगार युवाओं की भारी संख्या को देखते हुए सेवायोजन विभाग को आउटसोर्स एजेंसी बनाने का निर्णय लिया गया है.

युवाओं को अनुबंध के साथ रोजगार

विधानसभा सदन में विधायक संजीव आर्य, मुकेश कोली व सौरभ बहुगुणा ने उद्योगों में 70 प्रतिशत स्थानीय युवाओं को रोजगार देने में हीलाहवाली का मसला उठाया. इस सवाल पर सेवायोजन मंत्री ने कहा कि अब उद्योगों में स्थानीय युवाओं को अनुबंद के आधार पर रोजगार दिया जाएगा. इसका उल्लंघन करने पर संबंधित यूनिट के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

डेढ़ वर्ष में 436 रोजगार मेले आयोजित

- 924511 बेरोजगारों का पिछले पांच वर्ष में हुआ रजिस्ट्रेशन

- 12747 रजिस्टर्ड बेरोजगारों को विभागीय चयन प्रक्रिया के माध्यम से मिला रोजगार

- 436 रोजगार मेले आयोजित हुए पिछले डेढ़ वर्ष में

- 8721 बेरोजगारों को पांच वर्ष में मिला 192 उद्योगों में रोजगार

(विस सदन में सेवायोजन मंत्री द्वारा दी गई जानकारी पर आधारित आंकड़े)

-----------------------

रजिस्टर्ड बेरोजगार व रोजगार

वर्ष--रजिस्टर्ड बेरोजगार--रोजगार पाने वाले अभ्यर्थी

2013--151786--919

2014--254312--694

2015--182754--3472

2016--174255--3265

2017--161404--4397

----------------

टोटल--924511--12747

----------------