- सीसीएसयू का सर छोटूराम इंजीनियरिंग कॉलेज कर रहा पहल

- ब्रॉशर व इंक्वायरी फार्म प्रिंट नहीं कराएगा

MEERUT । कागज बचाने के लिए अब सीसीएसयू का सर छोटूराम इंजीनियरिंग कॉलेज पहल करने जा रहा है। इस साल से विवि ब्रॉशर व इंक्वायरी फार्म प्रिंट नही कराएगा, इसका फैसला लिया गया है। पेड़ बचाने व पर्यावरण के अनुकूल काम करने के लिए कॉलेज ने फिलहाल पहले चरण में ब्रॉशर को ऑनलाइन करने का फैसला लिया है। कॉलेज जल्द ही अन्य कामों को भी पूरी तरह से ऑनलाइन करने पर फोकस करेगा।

इसी सत्र से शुरु होगी प्रक्रिया

कॉलेज में बीटेक, एमबीए, ए8मसीए के करीब 17 सौ स्टूडेंट है। 2019 -20 के लिए कॉलेज के कोर्स की जानकारी देने के लिए अभी तक कॉलेज फार्म व ब्रॉशर प्रिंट होता था, लेकिन अब इस वर्ष से प्रक्रिया बीते दिनों की बात हो जाएगी। कॉलेज ने पर्यावरण के अनुकूल काम करने का फैसला लिया है, इसके लिए ब्रॉशर व इन्क्वायरी फार्म में प्रिंट आउट नहीं देने का फैसला लिया है। इसके लिए ये भी तय हुआ है कि जल्द ही वीसी प्रो। एनके तनेजा द्वारा कॉलेज की ई ब्रॉशर का विमोचन किया जाएगा।

जागरुक करेंगे स्टूडेंट्स

विवि ने ये भी फैसला लिया है कि यूनिवर्सिटी व सर छोटूराम के स्टूडेंट्स नए सत्र से पर्यावरण बचाने के लिए विभिन्न तरह के कैम्पेन चलाएंगे। इसके साथ ही विभिन्न तरह के जागरुकता सेमिनार का भी आयोजन किया जाएगा। इसका प्लान लगभग अंतिम चरण में है।

पेड़ व पर्यावरण बचाने के लिए ही इस तरह की मुहिम शुरु की गई है, ये मुहिम सकारात्मक बदलाव लाने वाली साबित होगी ऐसा माना जा रहा है।

डॉ। राजीव सिजेरिया, डिप्टी डायरेक्टर, सर छोटू राम इंजीनियरिंग कॉलेज, सीसीएसयू