डूबेगा कि बचेगा?

आधा दर्जन से अधिक मोहल्ले वाले वार्ड में जलभराव है बड़ी समस्या

इस साल भी नही हुई नालों की सफाई, लोगों की बढ़ी चिंता

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: हर साल बारिश में गंगा से लगे इलाकों में एक राजापुर भी लगभग पूरी तरह जलमग्न हो जाता है. लास्ट ईयर आई बाढ़ में इसकी तस्दीक हो चुकी है. इसके पहले भी इस वार्ड के तमाम मोहल्लों ने कई बार बाढ़ की समस्याओं का सामना किया है. जलभराव का सबसे अहम कारण है इस वार्ड में मौजूद नालों की सफाई नही होना. हर साल बारिश के पहले नगर निगम से नालों की सफाई की मांग की जाती है, जिसे अनसुना कर दिया जाता है. इस बार भी बारिश से ठीक पहले जलभराव की आशंका से लोगों का दिल बैठा जा रहा है.

जरा सी बारिश ने दिखा दिया ट्रेलर

तीन दिन पहले हुई बारिश ने इस वार्ड के लोगों को जलभराव का ट्रेलर दिखा दिया है. जबकि पूरी फिल्म अभी बाकी है. जिसकी शुरुआत बीस जून के बाद हो जाएगी. बता दें कि इस वार्ड में अशोक नगर, नेवादा, मऊसरैया, राजापुर, म्योर रोड, मिंटो रोड, पत्रकार कालोनी और साहिल कालोनी का एरिया शामिल है. इनमें से कोई भी एक मोहल्ला नही बचा है जहां जलभराव नही होता है. साहिल कालोनी के लोगों का कहना है कि बारिश होते ही गलियों में पैदल चलना मुश्किल होता है. पता नही चलता कि कहां जमीन है और कहां गडढा है.

लोगों को डराते हैं यह नाले

वार्ड में एक नही बल्कि आधा दर्जन नाले मौजूद हैं. इन बड़े नालों की पिछले कई सालों से सफाई नही हुई है. यह नाले खुले हैं और बस्तियों से होकर जाते हैं. इनकी जर्जर दीवार ढह चुकी है और जरा सी बारिश होने पर यह नाले उफनाकर घरों में घुस जाते हैं. जिससे मोहल्ले के लोगों का जीना हराम हो जाता है. यही कारण है कि जिस साल बारिश तेज होती है, वार्ड के हजारो लोगों को शेल्टर में रात बिताने पर मजबूर होना पड़ता है. उनके घरों में घुसने तक की नौबत नही बचती है.

नालों की सफाई नही होने से हर साल दिक्कत होती है. इसकी वजह से घरों में रहना मुश्किल हो जाता है. गंदगी से मन ऊबने लगा है. पता नही कब नाले साफ होंगे.

मास्टर शहजादे

दो दिन पहले हुई बारिश में साहिल कालोनी के कई घरों में नाले का पानी घुस गया था. इस नाले से हर साल सौ घर प्रभावित होते हैं लेकिन नगर निगम नही सुनता.

हाजी मोइनुउद्दीन

नगर निगम लोगों की नही सुनता है. अगर सालभर में एक बार भी अभियान चलाया जाए तो नालों की माकूल सफाई हो सकती है. इससे जलभराव से निश्चित तौर पर निजात मिल जाएगी.

मंजू झा

बारिश का मौसम आने वाला है और अभी से जलभराव को लेकर लोग चिंतित हैं. उन्हें मालूम है कि हर साल की तरह इस बार भी वाटर लागिंग की समस्या का सामना करना होगा.

आदित्य सिंह