-कानपुर में 28 और अकबरपुर में 35 कैंडिडेट ने कराए नॉमिनेशन, पर्याप्त नाम वापस न हुए तो हर बूथ लगानी पड़ेंगी दो 2 ईवीएम

-कैंडिडेट की संख्या देखकर निर्वाचन अधिकारियों के माथे पर आईं चिंता की लकीरें, लगभग 3 हजार ईवीएम और चाहिए

kanpur@inext.co.in

KANPUR : कानपुर और अकबरपुर लोकसभा सीटों पर उम्मीद से कहीं अधिक नॉमिनेशन हुए, जिसने निर्वाचन अधिकारियों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं। नॉमिनेशन फॉर्म की जांच और 11 व 12 अप्रैल को नॉमिनेशन वापसी में अगर कैंडिडेट की संख्या कम होकर 15 तक नहीं पहुंची तो बूथों पर 2 ईवीएम मशीन लगना तय हो जाएगा। लेकिन समस्या यह है कि चुनाव आयोग से कानपुर की 10 विधानसभा सीटों के लिए 5856 बैलेट यूनिट (वोट डालने की मशीनन) भेजी गई हैं। लोकसभा इलेक्शन के लिए कुल 3514 बूथ बनाए गए हैं। प्रत्येक बूथ में 2-2 बैलेट यूनिट लगाई गई तो 2,342 बैलेट यूनिट कम पड़ जाएंगी।

बैलेट यूनिट बिना संभव नहीं

बैलेट यूनिट के जरिए ही वोटिंग की जाती हैं। ऐसे में लगभग 3,000 से कम बीयू न होने से इलेक्शन प्रभावित हो सकता है। अब देखना ये है कि चुनाव आयोग कानपुर के लिए बैलेट यूनिट कहां से भेजता है। बता दें कि एक कंट्रोल यूनिट से 4 बैलेट यूनिट कनेक्ट की जा सकती हैं। जबकि वीवीपैट की संख्या में कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

------------

15 कैंडिडेट 1 ईवीएम में

सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी कमल किशोर ने बताया कि 1 बैलेट यूनिट में सिर्फ 15 कैंडिडेट वोट करने के लिए रखे जाते हैं। 1 नोटा के लिए ऑप्शन होता है। 15 से 1 भी ज्यादा कैंडिडेट होता है तो दूसरी बैलेट यूनिट लगानी पड़ती है।

-------------

लेट नाइट तक आएंगे रिजल्ट

सभी बूथों पर ईवीएम की संख्या 2 हो जाने से काउंटिंग में काफी टाइम लग सकता है। पहले शाम 5 बजे तक सभी सीटों पर रिजल्ट आ जाते थे, लेकिन इस बार टाइम लगेगा। वहीं हर राउंड के सभी विधानसभा की 5-5 ईवीएम और वीवीपैट की पर्चियों के मिलान करने के आदेश भी सुप्रीम कोर्ट में दिए हैं। ऐसे में काउंटिंग में और ज्यादा वक्त लग सकता है। अनुमान के मुताबिक रात 9 बजे तक दोनों सीटों के रिजल्ट आ पाएंगे।

----------

आयोग से मिली इतनी ईवीएम

बैलेट यूनिट- 5,856

कंट्रोल यूनिट-4,223

वीवीपैट- 4,560

----------

कानपुर में पोलिंग बूथ

पोलिंग बूथ- 3514

पोलिंग सेंटर- 1398

----------

कैंडिडेट की संख्या अगर 15 से अधिक होगी तो हर बूथ पर 2 बैलेट यूनिट लगानी होंगी। कैंडिडेट की सही स्थिति का पता 12 अप्रैल को ही होगा। बैलेट यूनिट कम होंगी तो चुनाव आयोग से डिमांड की जाएगी।

-विजय विश्वास पंत, जिला निर्वाचन अधिकारी, कानपुर नगर।