- अधिकारियों ने सुनाए अपने गुरुओं के संस्मरण

- आज भी गुरु को अपने साथ पाते हैं अधिकारी

Meerut . जिंदगी में गुरु का बेहद महत्वपूर्ण स्थान है. उन्हीं की बातों को लेकर हम आगे बढ़ते हैं. जिंदगी को ऐसे मुकाम पर ले जाते हैं, जहां पर पहुंचने के लिए टीचर्स की बातों का एक अहम रोल होता है. आज हम आपके सामने शहर के अधिकारियों की कहानी लेकर आ रहे हैं जो आज भी अपने टीचर के टच में है और उनकी बताई बातों को आज भी याद करते हैं. अधिकारियों का कहना है कि उनके टीचर उन्हें मोटीवेट करते थे. शिक्षकों के मोटिवेशन की वजह से ही आज वो आज अधिकारी पद पर हैं.

-------

गुरु जैसा बनने का रहता है प्रयास

मुझे मेरे बीएससी व एमके प्रोफेसर्स बहुत ही याद आते हैं. प्रो. जेसी पंत, प्रो. दर्शन लाल अरोड़ा और डॉ. गुलाटी ये तीनों ही शिक्षक थे जिन्होंने मुझे पढ़ाया है. वे पढ़ाने में उत्कृष्ट थे, मेरा हरदम प्रयास रहता है कि मैं भी उनके जैसे बन सकूं. मेरा मानना है कि समाज के प्रति शिक्षक समुदाय की जिम्मेदारी अब बड़ी है.

-प्रो. एनके तनेजा, वीसी, सीसीएस यूनिवर्सिटी

जब मैं विष्णु इंटर कॉलेज बरेली में हाईस्कूल में था तो मेरे एक टीचर थे मौर्य, जिन्होंने मुझे बहुत ही स्पोर्ट किया था. उनके लगातार मॉटीवेशन से मुझे मेरी बेहतर परफोमेंस वापस मिली और इंटर में मेरा रिजल्ट बेहतर आया.

-डॉ. महेंद्र देव, जेडी, शिक्षा विभाग

मेरी जीवन में सबसे ज्यादा प्रभाव हेडमास्टर अब्दुल लतीफ का पड़ा. जब हम जसपुर ऊधमसिंह नगर में पढ़ते थे. तो हमारे स्कूल के छात्रों के सबसे फेवरेट शिक्षकों में थे. हम अनुशासन के मामले में बहुत ही कठोर थे.

-मो. इकबाल, बेसिक शिक्षा अधिकारी

-------

गुरु प्रेरणा से मिलती है सफलता

टीचर के बारे में जितना भी कहा जाए कम हैं, क्योंकि गुरु वो है जो हमें जीवन को जीना सिखाता है, उनके बताएं रास्ते पर चलकर हम हर सफलता हासिल कर सकते हैं.

-अंशुल, स्टूडेंट

टीचर तो सभी बहुत अच्छे होते हैं, टीचर की बात करें तो टीचर के बिना हम जीवन में कभी सफल नहीं हो सकते हैं.

-अभिषेक जैन, स्टूडेंट

------

टीचर्स के लिए बाजार में स्पेशल उपहार

मेरठ. आज शिक्षक दिवस के अवसर पर जहां स्टूडेंट्स से लेकर अधिकारी तक अपने शिक्षकों को याद कर रहे हैं. वहीं अपने शिक्षकों को भावनाएं व्यक्त करने के लिए लोग बाजार से उनके लिए कई उपहार व हिंदी कोटेशन वाले ग्रीटिंग कार्ड खरीद रहे हैं.

हिंदी कोटेशन खूब बिकी

आर्चीज गैलरी वाले पुनीत सिंह ने बताया कि उनके यहां इस बार काफी सारे ऐसे स्टूडेंट्स हिंदी के ग्रीटिंग कार्ड खरीदने आए जो आज किसी बड़ी पोस्ट पर जॉब कर रहे हैं. बाजार में इनकी रेंज 30 रुपए से लेकर 500 रुपए के बीच हैं.

खूब बिक रहे हैं उपहार

बाजार में विभिन्न तरह के उपहार आए हुए हैं. इनमें विभिन्न तरह के गैजेट्स और विभिन्न तरह के उपहार काफी पसंद किए जा रहे हैं. जैसे सेल्फी स्टिक विद् कोटेशन, कोटेशन मोबाइल कवर, टीचर स्पेशल पैन, वॉच, डायरी फॉर टीचर, कोटेशन क्लेंडर आदि विभिन्न तरह के उपहार बाजार में आए हुए हैं. इनकी रेंज 50 रुपए से शुरु होकर एक हजार रुपए के बीच है.