- सीएम ने ली कार्मिक विभाग की समीक्षा बैठक

- लोक सेवा आयोग को भेजे गए तमाम विभागों के 883 पद

>DEHRADUN: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लोक सेवा आयोग व अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में दिव्यांजन अभ्यर्थियों के लिए परीक्षा केन्द्र संबंधित शहर के बस व रेलवे स्टेशन के पास ही करने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं. बाकायदा उन्होंने इस व्यवस्था को गंभीरता से लागू किए जाने के निर्देश दिए हैं. सीएम मंगलवार को सचिवालय में कार्मिक विभाग की समीक्षा ले रहे थे.

पदोन्नति पर न हो देरी

सीएम ने लोक सेवा आयोग के माध्यम से भरे जाने वाले सभी विभागों के खाली पदों के अधियाचन तत्काल आयोग को भेजे जाने के निर्देश भी दिए. उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर किसी कार्मिक की पदोन्नती के लिए डीपीसी में देरी स्वीकार नहीं किया जाएगा. नियम के मुताबिक समय से प्रोन्नति कार्मिकों का अधिकार है और इसके लिये उन्हें लेट-लतीफी का सामना न करना पड़े. बैठक के दौरान प्रमुख सचिव कार्मिक राधा रतूड़ी ने बताया कि कार्मिक अनुभाग-ख् द्वारा आईएएस व पीसीएस स्तर के रिक्त पदों के लिये लोक सेवा आयोग को अधियाचन भेजे जाते हैं. वर्तमान में कार्मिक अनुभाग-ख् में कोई भी कार्य लम्बित नहीं है.

आयोग को भेजा ब्क्9 पद

कार्मिक विभाग द्वारा सम्मिलित राज्य सिविल प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा के क्ब्9 पदों व राज्य अवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा के अंतर्गत ख्70 पदों का अधियाचन लोक सेवा आयोग को भेजा गया है. प्रमुख सचिव के मुताबिक राज्य सहायक अभियंता सेवा परीक्षा के लिए तमाम विभागों के ब्7 पद व कनिष्ठ अभियंता सेवा परीक्षा के लिए विभागों के ब्क्म् पदों का अधियाचन लोक सेवा आयोग को भेजा गया है. उन्होंने बताया कि राज्य में विभिन्न चयन संस्थाओं द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले दिव्यांग अभ्यर्थियों के लिए सुविधा प्रदान किये जाने, परीक्षा केन्द्र बहुमंजिले भवन में होने की स्थिति में दिव्यांग अभ्यर्थियों को भवन के भूतल स्थित कक्ष में ही सीट आवंटित किये जाने के भी निर्देश दिए गए हैं.