- सिटी के चैम्पियंस कार्यक्रम में उमड़े सैकड़ों स्टूडेंट्स

- सम्मान के साथ ग्रुप फोटो और सेल्फी का भी चला दौर

BAREILLY:

मानव रचना यूनिवर्सिटी प्रजेंट दैनिक जागरण आईनेक्स्ट 'सिटी के चैम्पियंस' कार्यक्रम में जब यूपी बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई से पासआउट 12 वीं के मेधावियों का सम्मान हुआ तो बरेली कॉलेज ऑडिटोरियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. कार्यक्रम में शहर के विभिन्न स्कूलों के सैकड़ों मेधावी स्टूडेंट और गुरुजनों ने हिस्सा लिया. कार्यक्रम का शुभारम्भ चीफ गेस्ट डॉ. प्रमेंद्र माहेश्वरी ने मां सरवस्ती की प्रतिमा के सामने दीप प्रज्ज्वलित कर किया. चीफ गेस्ट ने मंच से ही कार्यक्रम का हिस्सा बने स्टूडेंट्स का मार्गदर्शन किया.

ट्रॉफी और सर्टिफिकेट मिले तो खिल उठे चेहरे

12 वीं में 60 फीसदी या उससे ऊपर अंक पाने वाले स्टूडेंट्स को वेडनसडे को सम्मानित किया गया. रजिस्ट्रेशन कराने वाले स्टूडेंट्स में से टॉप 14 को मंच पर बुलाकर ट्रॉफी और सर्टिफिकेट दिया गया. उसके बाद कार्यक्रम में मौजूद सभी स्टूडेंट्स को एक-एक कर सर्टिफिकेट दिए गये. सर्टिफिकेट पाकर स्टूडेंट्स के चेहरे खुशी से खिल उठे. सम्मान समारोह में हिस्सा लेने के लिए अधिकतर स्टूडेंट्स अपने टीचर और पेरेंट्स के साथ पहुंचे हुए थे. दूर-दराज के गांवों से भी मेधावियों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

राष्ट्रगान से हुआ कार्यक्रम का समापन

सम्मान पाने के बाद ट्रॉफी और सर्टिफिकेट के साथ स्टूडेंट्स ने ग्रुप फोटो भी करवाए. सेल्फी भी ली. कुछ स्टूडेंट्स कार्यक्रम का हिस्सा नहीं बन सके. वह कार्यक्रम में लेट पहुंचे थे. हालांकि, दैनिक जागरण आईनेक्स्ट ने लेट पहुंचे मेधावियों को भी सर्टिफिकेट दिये. कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान से किया गया.

हम जिस मोड़ पर हैं वहां हमको सही दिशा और डायरेक्शन की जरूरत है. जिससे हम अपने लक्ष्य से भटकें नहीं. केवल किताबी ज्ञान रखना जरूरी नहीं है. मुश्किलों को नजरअंदाज कर आगे बढ़े.

प्रमेंद्र माहेश्वरी- प्रेसीडेंट, आईएमए

---------------------

दैनिक जागरण आईनेक्स्ट को थैंक्स, इस तरह के प्रोग्राम कराने के लिए. आगे कॉन्टीन्यू इस तह के प्रोग्राम कराने चाहिए. विलो 60 फीसदी स्टूडेंट्स के लिए इस तरह का प्रोग्राम ऑर्गनाइज्ड होना चाहिए. ताकि, उनका भी मनोबल बना रहे.

अपर्णा मिश्रा, फिजिक्स टीचर , कांति कपूर

ऐसे प्रोग्राम से स्टूडेंट्स को आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है. लक्ष्य पाने में मदद मिलती है. वह अपनी मंजिल से भटकता नहीं है. समय-समय पर इस तरह के प्रोग्राम होते रहने चाहिए.

सुरेंद्र कुमार, मैथ्स टीचर, श्री गुलाब राय इंटर कॉलेज

बच्चों को चाहिए अपनी लाइफ में आगे बढ़े. आने वाली रुकावटों से घबराएं नहीं. बल्कि उनका मजबूती के साथ सामना करें. जरूरत पड़ने पर अपने पेरेंट्स, फ्रेंड्स और गुरु की मदद लें. आत्मविश्वास होना बेहद जरूरी है.

अर्चना राजपूत, इंग्लिश टीचर, जीजीआईसी

पढ़ने के साथ ही बच्चों को सेल्फ डिफेंस के गुण सिखाएं. खेलकूद बेहद जरूरी है. इससे हमारी बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है. शरीर स्वस्थ रहता है. जिससे एकाग्रता बढ़ती है.

शहनाज हुसैन, स्पो‌र्ट्स टीचर, इस्लामिया ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज

आगे बढ़ने के लिए अनुशासन बहुत जरूरी है. स्टूडेंट्स को अनुशासित रहना चाहिए. सबसे बढ़ी बात अपनी क्षमताओं पर भरोसा हो. लाइफ में कभी हताश नहीं हों. यदि, ऐसा हो तो जिंदगी में कुछ भी हासिल किया जा सकता है.

विवेक उपाध्याय, केमिस्ट्री टीचर, जीआरएम

लाइफ में किसी काम के लिए बहाने नहीं होने चाहिए. लक्ष्य को पाने के लिए यदि छोटी-छोटी चीजों का अभाव भी है, तो उससे लड़ना सीखे. यही चीज हमें आगे ले जाने में हमारी मदद करेगी. अनुशासन से ही लक्ष्य हासिल कर सकते हैं.

संजीव यादव, फिजिक्स टीचर, सेक्रेड हा‌र्ट्स

प्रोग्राम काफी अच्छा रहा. बच्चों की वजह से टीचर अपना नाम कमाता है. किसी की बातों को जो जितना ध्यान से सुनेगा उतना ही कामयाब बनेगा. सभी स्टूडेंट्स को ऑल द बेस्ट.

रमन अरोड़ा, इकोनॉमिक्स टीचर, एसआर इंटरनेशनल

स्टूडेंट्स ने जिस सिंसियारिटी से रिजल्ट दिया है. आगे भी उसी सेंसियरिटी से आगे बढ़ें. लक्ष्य से भटके नहीं. ताकि, देश को आगे ले जाने में अपनी अहम भूमिका निभा सकें.

सचिन सक्सेना, कॉमर्स टीचर, डीपीएस

एक्टिविटी में हिस्सा लेने से स्टूडेंट्स की सोच डेवलप होती है. इस तरह के प्रोग्राम होते रहने चाहिए. स्टूडेंट्स जो भी काम करें पूरी ईमानदारी से करें. लाइफ में कभी झूठ का सहारा न लें. भविष्य में जरूर कामयाबी मिलेगी.

सौरभ सक्सेना, इंग्लिश टीचर, पदमावती एकेडमी

बच्चों के लिए दैनिक जागरण आईनेक्स्ट ने जो प्रोग्राम किया है उसका लाभ उन्हें मिलेगा. किसी भी क्षेत्र में जाने की बजाय जिस चीज में रुचि है, उसी के अनुसार तैयारी करें. इससे लक्ष्य को पाना और आसान हो जाता है.

विनय कुमार सिंह, फिजिक्स टीचर, जयनारायण इंटर कॉलेज

हार्ड वर्क करना सफलता की गारंटी नहीं है. लिमिटेड पढ़ाई करें, लेकिन प्लानिंग और सिंसियॉरिटी के साथ पढ़ें. स्टूडेंट्स को चाहिए किसी एक सब्जेक्ट पर ध्यान देने की बजाय सभी सब्जेक्ट पर फोकस करें.

डॉ. दर्पण कुंजरू, इकोनॉमिक्स टीचर, महर्षि विद्यामंदिर

सिटी के चैम्पियंस प्रोग्राम के तहत मेधावियों को सम्मानित करना दैनिक जागरण आईनेक्स्ट की अच्छी पहल रही. इस तरह के प्रोग्राम से बच्चों का हौसला बढ़ेगा. मेहनत और लगन से लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है.

गरिमा सेठी, इको प्वॉइंट इकोनॉमिक एंड बिजनेस स्ट्डी इंस्टीट्यूट