ब्रिटिश कानून के शिकंजे में फंसे फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका
लंदन (आईएएनएस)यूके के डाटा प्रोटेक्शन वॉच डॉग ने बहुचर्चित डेटा लीक मामले में Facebook पर 5 लाख पाउंड यानी करीब 6,62,501 डॉलर का जुर्माना ठोकने का प्‍लान किया है। यूके के डेटा प्रोटेक्शन कानून के आधार पर ब्रिटेन में अब तक का यह सबसे बड़ा जुर्माना होगा। इस मामले की जांच के दौरान इंफॉर्मेशन कमिश्नर ऑफिस ने पाया कि फेसबुक ने लोगों की पर्सनल सूचनाओं को सुरक्षित रखने में लापरवाही की है। साथ ही पब्लिक का डाटा किन थर्ड पार्टीज द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा है, कंपनी ने इसकी जानकारी भी नहीं दी। ऐसा करना ब्रिटिश कानून का सरासर उल्लंघन है।

डेटा लीक मामले में फेसबुक पर सबसे बड़ा जुर्माना,देना होगा करोंड़ो रुपए का फाइन

कैंब्रिज एनालिटिका की पेरेंट कंपनी पर भी हो सकती है बड़ी कार्रवाई
इस मामले में कैंब्रिज एनालिटिका के साथ-साथ फेसबुक जांच के केंद्र में रही है, जो जांच फरवरी से जारी है जब फेसबुक के करीब 87 मिलियन यूजर्स का डाटा एक ऐप द्वारा गलत तरीके से हासिल किया गया। BBC ने बताया है कि इस मामले में जारी हुई लेटेस्ट प्रोग्रेस रिपोर्ट में मुख्य नियामक ने कहा है कि हम इस मामले में कैंब्रिज एनालिटिका के गलत कामों के लिए उसकी पेरेंट कंपनी SCL इलेक्शंस के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही कर सकते हैं। नियामक का यह भी कहना है कि Aggregate IQ जिसने भी वोट लीव कैंपेन के साथ काम किया था उसे भी UK के नागरिकों के डाटा प्रोसेस को रोकना होगा। नियामक ने यूके की 11 मुख्य राजनीतिक पार्टियों को पत्र लिखकर कहा है कि उन्हें अपनी डाटा प्रोडक्शन नीतियों और प्रोसेस का ऑडिट कराना होगा।

डेटा लीक मामले में फेसबुक पर सबसे बड़ा जुर्माना,देना होगा करोंड़ो रुपए का फाइन

ICO ने कहा कैंब्रिज एनालिटिका ने एफबी का डेटा डिलीट करने से पहले दूसरों के साथ किया शेयर
इस मामले में फेसबुक के साथ-साथ कैंब्रिज एनालिटिका भी काफी बुरी तरह से फंसी नजर आ रही है। बता दें कि इन्फॉर्मेशन कमिश्नर की यह जांच रिपोर्ट संबंधित पॉलिटिकल कैंपेन के 16 महीने बाद आई है। इस पीरियड के दौरान यह पाया गया कि कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा हासिल किया गया डाटा फेसबुक ने डिलीट नहीं करवाया। हालांकि इस मामले में कैंब्रिज एनालिटिका ने रिक्वेस्ट करके कहा है कि दिसंबर 2015 में फेसबुक की ओर से इरेजइरेजर रिक्वेस्ट के बाद उसने पूरा डाटा डिलीट कर दिया था लेकिन इंफॉर्मेशन कमिश्नर ऑफिस का कहना है कि हमें इस बात के प्रमाण मिले हैं कि उस डाटा की कॉपी कुछ दूसरे लोगों के साथ शेयर की गई है। अब इस मामले में फेसबुक ने कैंब्रिज एनालिटिका को दिए गए डाटा की जो डिलीट रिपोर्ट ICO को दी है, उस पर भी सवाल खड़े हो गए हैं।

BSNL की 'Wings' ऐप से कर पाएंगे फ्री कॉलिंग! लाइफ टाइम के लिए देनी होगी बस इतनी सी फीस

माइक्रोसॉफ्ट ने लॉन्च की कम कीमत वाली धासू टैबलेट जिसमें है 4K डिस्प्ले स्क्रीन

कार के बाद स्मार्टफोन के लिए भी आ गए एयरबैग, जो उसे टूटने नहीं देंगे

Technology News inextlive from Technology News Desk