- रेलवे स्टेशन पर बम की सूचना से मचा हड़कंप

- झूठी निकली जानकारी, आरपीएफ कर रही जांच-पड़ताल

GORAKHPUR: रेलवे स्टेशन पर पुल के नीचे बम होने की सूचना से हड़कंप मचा रहा. गुरुवार सुबह साढ़े छह बजे से लेकर पौने सात बजे के बीच कॉलर ने रेलवे के तीन कंट्रोल रूम को अलग-अलग फोन करके बम होने की जानकारी दी. आरपीएफ कंट्रोल रूम सहित अन्य को मिली सूचना से सुरक्षा बल एक्टिव हो गए. एसपी जीआरपी पुष्पांजलि की अगुवाई में जीआरपी, आरपीएफ के असिस्टेंट कमांडेंट श्रेयांश, सीओ एलआईआयू, पीएसी के बम डिस्पोजल और डॉग स्कवायड की टीम ने घंटों जांच पड़ताल की. बम की सूचना झूठी निकलने पर आरपीएफ ने कॉलर के मोबाइल नंबर के खिलाफ झूठी सूचना देने, रेलवे के काम में बाधा पहुंचाने का मुकदमा दर्ज कर लिया.

दो घंटे की छानबीन में फुस्स हो गया बम

रेलवे स्टेशन पर पुल के नीचे बम होने की सूचना किसी अज्ञात व्यक्ति ने कंट्रोल रूम को दी. साढ़े छह बजे से लेकर पौने सात के बीच उसने तीन बार कॉल किया. मोबाइल नंबर 7035169748 से फोन करने वाला खुद को कभी जुनैद तो कभी राकेश बता रहा था. तीनों जगहों पर कॉल करने के दौरान उसने अलग-अलग नाम बताए. बम की सूचना मिलने पर सुरक्षा बल एक्टिव हो गए. प्लेटफॉर्म, सर्कुलेटिंग एरिया सहित अन्य जगहों की छानबीन शुरू कर दी गई. एसी लाउंज, पार्सल घर, इन्कवॉयरी, सभी फुट ओवरब्रिज सहित अन्य जगहों की जांच में कोई संदिग्ध वस्तु नजर नहीं आई. करीब दो घंटे तक चली छानबीन के बाद लोगों ने राहत की सांस ली. छानबीन में सामने आया कि मोबाइल नंबर बिहार के एक व्यक्ति के नाम से रजिस्टर्ड है. वह चंद पलों के लिए रेलवे स्टेशन पर ऑन होकर बंद हो गया था. कॉल डिटेल से पता लगा कि वह अक्सर सरकारी विभागों में फोन करता रहता है.

वर्जन

बम की सूचना मिलने पर जांच-पड़ताल कराई गई. कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली. आरपीएफ ने झूठी सूचना और रेलवे के काम में बाधा पहुंचाने का मुकदमा दर्ज किया है.

- पुष्पांजलि, एसपी जीआरपी