- जालसाज हुए सक्रिय तेजी से फैल रहे निकली सिक्के

- खनक में छिपा है असली-नकली का राज

BAREILLY:

मार्केट में जाली नोट ही नहीं, 10 रुपए के नकली सिक्के भी खनक रहे हैं, जो कि एक हाथ से होते हुए दूसरे हाथ में होते हुए मार्केट में तेजी से फैल रहे हैं. सूत्रों की मानें तो नकली सिक्के बरेली में तैयार नहीं हो रहे हैं, लेकिन जालसाजों के तार बरेली से जरूर जुड़े हुए हैं, जो कि यहां पर कुछ लोगों से सेटिंग कर नकली सिक्कों को खपाने का काम कर रहे हैं.

तेजी से बढ़ रहे जाली सिक्के

मार्केट में तेजी से फैल रहे 10 के नकली सिक्कों का प्रचलन रोकने की बजाय बैंक प्रबंधन व प्रशासन इस बात से अनजान बना हुआ है. जिसका खामियाजा पब्लिक को भुगतना पड़ रहा है. जब वह नकली सिक्के लेकर दुकान पहुंच रहे हैं, तो दुकानदार लेने से साफ मना कर दे रहे हैं. हालांकि, थोड़ी सी सावधानी रखते हुए इन तमाम मुसीबतों से बचा जा सकता है.

कैसे करें पहचान

एक्सपर्ट की मानें तो थोड़ी सी सावधानी रख हम असली-नकली सिक्कों की पहचान आसानी से कर सकते हैं. असली सिक्के को फर्श पर गिराने से खनखनाती हुई आवाज आती है. जबकि, नकली सिक्के एल्युमीनियम के बने होने की वजह से उसे 10, 20 पैसे के सिक्के गिरने जैसी आवाज आती है. असली सिक्कों में 10 रुपए के ऊपर एक पट्टी होती है. यह पट्टी 10 होती है. जबकि, नकली में नहीं होती है. कई बार होती भी है, तो उसकी संख्या में अंतर होगा.

ब्रांच में जो भी नकली सिक्के या नोट आते हैं, तो उसे जब्त कर लिया जाता है, जिसे बाद में आरबीआई को भेज दिया जाता है. मार्केट में इस तरह का चल रहा है, तो प्रशासन और पुलिस को एक्शन लेने की जरूरत हैं.

राजेश शर्मा, डिप्टी मैनेजर, कैश एसबीआई