- युवक के कमरे से 54 हजार नकली नोट बरामद

- हाई फाई लाइफ स्टाइल की थी ख्वाहिश

GORAKHPUR: इंटरनेट से नकली नोट बनाना सीखकर एक युवक अपनी सारी ख्वाहिशें पूरा करना चाहता था. लेकिन अपने मंसूबे में कामयाब होने से पहले ही पुलिस के शिकंजे में आ गया. शहर के प्रतिष्ठित होटल से निकाले गए वेटर को अरेस्ट करके गोरखनाथ पुलिस ने नकली नोट बनाने के खेल का खुलासा किया. आरोपी के पास से पुलिस ने 54, 200 रुपए के नकली नोट, लैपटॉप, प्रिंटर सहित कई उपकरण बरामद किए. मंगलवार को एसएसपी अनंत देव ने मामले की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि आरोपी को पकड़ने वाली पुलिस टीम को पांच हजार का इनाम दिया जाएगा. एसपी सिटी हेमराज मीणा और सीओ गोरखनाथ डीएन शुक्ला ने पुलिस टीम को शाबासी दी.

बिस्तर के नीचे था नकली नोट

गोरखनाथ एरिया के हुमायूंपुर मोहल्ले में नकली नोट बनाने की सूचना पुलिस को मिली. सोमवार को पुलिस ने टीम बनाकर मोहल्ले में एक युवक के किराए के कमरे दबिश दी. बिस्तर के नीचे छिपाकर रखी गई सौ-सौ रुपए की गड्डी देखकर पुलिस चौंक गई. पूछताछ में युवक की पहचान आजमगढ़ जिले के रौनापार, इस्माइलपुर निवासी रामसकल यादव के बेटे अक्षय यादव के रूप में हुई. कमरे से पुलिस ने सौ-सौ रुपए का 54, 200 रुपया बरामद किया. 42 आधी बनी हुई नोट, प्रिंटर, लैपटॉप सहित कई सामान कब्जे में ले लिया.

नौकरी छूटने पर शुरू किया धंधा

आरोपी ने पुलिस को बताया कि 10 साल पहले वह घर से भागकर गोरखपुर आया था. इस दौरान उसने शहर के विभिन्न होटलों में वेटर का काम किया. इससे उसकी जान पहचान तमाम लोगों से हो गई. वह हाईस्कूल पास था. इसी बीच उसकी रुचि इंटरनेट में हो गई. इंटरनेट से वह तमाम जानकारियां हासिल कीं. करीब एक महीने पहले जिस होटल में वह नौकरी कर रहा था वहां के मालिकान बदल गए. इसके बाद उसने हुमायूंपुर में कमरा ले लिया. इसके बाद इंटरनेट पर सर्च करके उसने रुपए कमाने की तरकीब निकाल ली.

बॉक्स-1

हाऊ टू मेक फेक मनी देखकर सीखा

आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने यू ट्यूब पर हाऊ टू मेक फेंक मनी सर्च किया. यहां उसने बच्चों के खेलने वाली नोट बनाने की विधि जानकार प्रिंटर, पेपर कटर सहित अन्य उपकरण खरीदकर ले आया. इसके बाद कमरे में उसने नोट बनाना शुरू कर दिया. बाजार में ट्रायल करने के लिए वह सौ रुपए की नोट लेकर गोरखनाथ गया. शाम होने से दुकानदार ने नोट लपककर रख लिया. इससे अक्षय का मन बढ़ गया. उसे लगा कि पांच सौ और एक हजार की नोट दुकान पर चेक होती है. सौ रुपए की नोट को चेक करने में दुकानदार ने गंभीरता नहीं दिखाई. इसलिए उसने भारी मात्रा में नोट बनाना शुरू कर दिया.

बॉक्स-2

चोर ने खोल दिया नोट का राज

आरोपी अक्षय के अरमान परवान चढ़ पाते. इसके पहले वह पुलिस के हाथ लग गया. चार दिन पहले उसके कमरे में उसका परिचित युवक पहुंचा. चोरी की नीयत से उसने बिस्तर उठाया तो नोटों की गड्डी देखकर वह परेशान हो गया. कमरे में आधा बने नोट देखकर वह माजरा समझ गया. उसने बाहर जाकर नकली नोट बनाने की जानकारी सबको दे दी. सूचना पाकर पुलिस मौके पर धमक पड़ी. रंगे हाथ जाली नोट बनाते युवक को पकड़ लिया. पुलिस टीम में शामिल एसओ सदानंद सिंह, एसआई प्रमोद कुमार सिंह, कांस्टेबल प्रदीप कुमार और सत्यदेव सिंह को इनाम देने की घोषणा की.

वर्जन

नकली नोट बनाने में युवक पकड़ा गया है. उसे लगा कि सौ रुपए का नोट मार्केट में खपाना काफी आसान है. इसलिए वह रुपए बनाने लगा. आरोपी के खिलाफ जालसाजी सहित कई धाराओं में केस दर्ज किया गया है.

-अनंत देव, एसएसपी