patna@inext.co.in

KISHANGANJ/PATNA

: आए दिन नेपाल से जाली भारतीय नोटों के आने की चर्चा होती थी. अब भारत-नेपाल सीमा पर बिहार के इलाके में नकली नेपाली नोट खपाए जा रहे हैं. भारत-नेपाल सीमा पर तैनात एसएसबी जवानों ने रविवार देर रात छापेमारी कर आठ लाख के जाली नेपाली रुपए के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार कर लिया है. किशनगंज से सटे पश्चिम बंगाल स्थित नक्सलबाड़ी के रायपुर में एसएसबी की 41वीं बटालियन, रानीडांगा की टीम व बंगाल पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में यह सफलता मिली.

सूचना के आधार पर हुई कार्रवाई

कार्रवाई के दौरान बिना नंबर की वैगनआर कार पर सवार चार अन्य तस्कर भाग निकले. इनकी तलाश में बंगाल पुलिस व एसएसबी संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. गिरतार तस्कर रायपाड़ा, नक्सलबाड़ी निवासी मनोज आचार्य को पूछताछ के बाद एसएसबी ने बंगाल पुलिस के हवाले कर दिया. एसएसबी, 41वीं बटालियन के कमांडेंट राजीव राणा ने बताया कि विगत कई दिनों से इलाके में नकली नेपाली नोट खपाए जाने की सूचना मिल रही थी. तस्करों की गिरतारी के एसएसबी इलाके की नाकेबंदी कर लगातार नजर रख रही थी. इसी बीच रविवार शाम जवानों ने नेपाल की दिशा से आने वाली सड़क पर नाका लगाकर वाहनों की जांच शुरू की. इसी दौरान पानी टंकी से नक्सलबाड़ी की ओर जा रहे तेज रफ्तार वैगनआर कार को देख जवान चौकन्ने हो गए. नाका के निकट कार के रुकते ही उसपर सवार लोग फरार हो गए. इस दौरान जवानों ने पीछा कर एक को दबोच लिया. कार की तलाशी के दौरान डिक्की में छिपाकर रखे जाली नोटों के बंडल बरामद किए गए. एक-एक हजार रुपये के सभी नोटों के नंबर एक ही थे.