lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : विभूतिखंड स्थित लोहिया अस्पताल में गुरुवार रात गोंडा की प्राची तिवारी की संदिग्ध हालात में मौत के मामले में उसके चचेरे भाई-बहनों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कराया गया है। युवती के पिता अतुल तिवारी ने रंजिश में हत्या का आरोप लगाया है। केस दर्ज कर जांच की जा रही है। पुलिस ने चारों आरोपियों को शुक्रवार को पॉलीटेक्निक पुल के पास से गिरफ्तार कर लिया है।

रंजिश में जहर देकर की हत्या

इंदिरानगर इंस्पेक्टर अमरनाथ विश्वकर्मा ने बताया कि मृतका के पिता अतुल  ने अपने भाई भगौती प्रसाद तिवारी के बेटे अभिमन्यु तिवारी, शुभम तिवारी उर्फ सत्य मेधा, बेटी अनुराधा, शुचि और एक अन्य कार्तिक के खिलाफ केस दर्ज कराया है।

लावारिस छोड़ कर भागे थे
प्राची को गुरुवार रात करीब सात बजे दो युवक गंभीर हालत में लोहिया अस्पताल में छोड़कर भाग गए थे। युवकों ने अपना परिचय प्राची के भाई के रूप में देते हुए रजिस्टर में अपना पता इंदिरानगर के भीटा आश्रम लिखा था। उपचार के दौरान प्राची की मौत हो गई थी। प्रभारी निरीक्षक का कहना है कि प्राची की मौत जहर खाने से हुई है। उसने खुद जहर खाया या किसी ने उसे जहर खिलाकर मारा, इसकी जांच की जा रही है। पुलिस ने शुक्रवार को चारों आरोपियों को पॉलीटेक्निक पुल के पास से गिरफ्तार कर लिया।

महाराजगंज निवासी है अभिमन्यु

अभिमन्यु मूलरूप से महाराजगंज के केवलापुर टंडौली का रहने वाला है और कई साल से इंदिरानगर के भीटा आश्रम में कब्जा करके रह रहा है। अतुल की आरोपियों से पुरानी रंजिश चल रही है। करीब दो महीने पहले उनकी बेटी को आरोपी बहलाफुसलाकर अपने साथ यहां ले आये थे। गुरुवार रात करीब एक बजे पुलिस ने उन्हें फोन कर प्राची की मौत की सूचना दी। अतुल का आरोप है कि रंजिश के चलते ही अभिमन्यु और उसकी बहनों ने प्राची को जहर खिलाकर मार दिया। गौरतलब है कि गुरुवार को घटना के बाद से सनसनी मच गई थी।

Crime News inextlive from Crime News Desk