आगरा. सिटी की सड़कों पर चाऊमीन के रूप में बिक रहे स्लो प्वॉइजन की खबर आईनेक्स्ट में दिनांक आठ जून को प्रकाशित होते ही प्रशासनिक अधिकारियों की आंखें खुल गई. खबर में दिए गए तथ्यों के आधार पर अब खाद्य औषध विभाग ने चाऊमीन की जांच के लिए टीम गठित की हैं. जल्द ही शहर की सड़कों पर बिकने वाली चाऊमीन की जांच के लिए अभियान शुरू किया जाएगा.

लेड से अधिक घातक

आई नेक्स्ट टीम ने आठ जून के न्यूज पेपर में खबर प्रकाशित की थी, कि सिटी की सड़कों पर धड़ल्ले से बेची जा रही चाऊमीन भी हानिकारक है. मैगी में पाए जाने वाले लेड से भी अधिक चाऊमीन में हानिकारक केमीकल पाए जाते हैं, जो गंभीर बीमारियों की ओर लोगों को धकेलते हैं. सिटी में इसका लाखों रुपये का प्रतिदिन का कारोबार है. भूख मिटाने के लिए खाई जाने वाली चाऊमीन हर चौराहे पर आसानी से मिल जाती है.

तीन टीमों का हुआ गठन

आई नेक्स्ट में खबर प्रकाशित होने के बाद प्रशासिनक अधिकारियों ने इस स्लो प्वॉइजन के कारोबार पर नजर डाली है. खाद्य निरीक्षक राम नरेश यादव द्वारा तीन टीमों का गठन किया गया है, जो सिटी की सड़कों पर बिकने वाली चाऊमीन की ठेलों पर छापामार कार्रवाई करेंगीं. ठेल पर पाए जाने वाले हानिकारक केमिकलों को ज?त किया जाएगा, साथ ही जुर्माना भी ठोंका जाएगा, जिससे लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वाला यह व्यापार बंद हो सके.

अजीनोमोटो का प्रयोग गलत

खाद्य निरीक्षक राम नरेश यादव ने बताया कि ठेल पर बनाई जाने वाले मसाले सही हैं और उस चाऊमीन में अजीनोमोटा का प्रयोग नहीं किया जा रहा है, तो उससे कोई हानि नहीं होती है. अजीनोमोटो टेस्ट बढ़ाता है, साथ ही लोगों को इसकी आदत डाल देता है, जिससे वे एक बार चाऊमीन यदि खा लें, तो उनका मन चाऊमीन खाने के लिए बार-बार करता है.

जाग गई समाजसेवी संस्थाएं

आई नेक्स्ट न्यूज पेपर की इस न्यूज ने प्रशासनिक अधिकारियों की नींद ही नहीं खोली, बल्कि समाजसेवी संस्थाओं को भी जगा दिया. सिटी के नुक्कड़ और चौराहों पर लगने वाली इन ठेलों पर जांच की जाए इसके लिए सामाजिक संस्था कोशिश फाउंडेशन ने सोमवार को खाद्य निरीक्षक राम नरेश यादव को ज्ञापन सौंपकर मांग की, कि इन ठेलों पर जांच की जाए. जिससे जहर का यह व्यापार बंद किया जा सके.

चौराहों पर चलेगा अभियान

सिटी में जो ठेले हैं, वो पंजीकृत नहीं है. इसलिए इनका चिह्नीकरण नहीं किया जा सकता है. इसके लिए तीन टीमों का गठन किया गया है, जो अलग-अलग क्षेत्र में जाकर ठेल ढकेल पर बेची जाने वाली चाऊमीन की जांच करेंगे. सबसे पहले मुख्य चौराहों को चिह्नित किया जाएगा.

प्रतिदिन एक लाख से ज्यादा लोग लेते धीमा जहर

चाऊमीन के रूप में चौराहों पर बिकने वाले धीमे जहर को प्रतिदिन एक लाख लोग खाते हैं. आंकडे़ कुछ यहीं बयां करते हैं. सिटी में तकरीबन 2000 चाऊमीन की ठेल हैं, प्रति ठेल वाला एक दिन में सात से आठ किलो चाऊमीन बिक्री कर देता है. एक किलो चाऊमीन में फुल प्लेट लगभग छह से सात बनती हैं. यानि प्रतिदिन लगभग एक लाख से ज्यादा आदमी चाऊमीन खाता है.

---------