- एडीएसआईसी ने महिला अस्पताल की नई बिल्डिंग में मांगी थी जगह

- सीएमएस ओल्ड मैटरनिटी वार्ड में दे रही थी स्थान, सीएमओ रहे मौजूद

>BAREILLY :

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में बुखार के मरीजों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ रही है. जिससे हॉस्पिटल में एक बेड पर दो-दो मरीजों को एडमिट करना पड़ रहा है. समस्या के निदान को डीएम ने फीमेल हॉस्पिटल की नई बिल्डिंग में मरीजों को एडमिट करने के निर्देश दिए थे. लेकिन महिला अस्पताल की सीएमएस ने ओल्ड मैटरनिटी वार्ड देने की बात कर रही थी. इस पर मंडे को एडीएसआईसी, सीएमओ, सीएमएस ने निरीक्षण किया तो महिला अस्पताल की सीएमएस और एडीएसआईसी में तीखी नोकझोंक हो गई. आखिर में आधुनिक प्रसव केंद्र के पहली मंजिल पर बने हॉल में मरीज भर्ती करने पर सहमति बनी. हालांकि सुरक्षा का मुद्दा फिर भी उलझा रहा.

डेली आ रहे 100 मरीज

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में सवा तीन सौ मरीजों को भर्ती करने की व्यवस्था है. संक्रमण का प्रभाव होने के कारण मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. लेकिन हॉस्पिटल में प्रतिदिन 100 मरीज एडमिट हो रहे हैं. जिसके कराण मरीजों की हॉस्पिटल में संख्या अधिक बढ़ी तो एक बेड पर दो मरीज तक एडमिट करने पड़ रहे है. निरीक्षण के दौरान वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने भी नाराजगी जाहिर की थी. संडे रात डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के साथ बैठक की तो एडीएसआइसी डॉ. केएस गुप्ता ने पिछले वर्ष की तरह मरीजों को एडमिट करने के लिए महिला हॉस्पिटल के आधुनिक प्रसव केंद्र में जगह मांगी. इस पर डीएम ने सीएमएस डॉ. साधना सक्सेना को निर्देशित कर दिया. मंडे को सीएमओ डॉ. विनीत शुक्ला, एडीएसआइसी और सीएमएस समेत अन्य डॉक्टर जगह देखने पहुंचे. तब सीएमएस ने बुखार के मरीज एडमिट करने के लिए नई बिल्डिंग की मांग की. जबकि सीएमएस महिला हॉस्पिटल की ओल्ड लेबर रूम दे रही थी.

नई बिल्डिंग लेने पर अड़े

महिला हॉस्पिटल की सीएम ने नई बिल्डिंग में बुखार के मरीज एडमिट होने से गर्भवती महिलाओं को इंफेक्शन होने का खतरा बताते हुए ओल्ड मैटरनिटी विंग के चार वार्ड देने को कहा. इस बात पर एडीएसआइसी और उनके बीच तीखी नोकझोंक हो गई. डॉक्टरों ने ओल्ड मैटरनिटी वार्ड भी देखा, जिसे मरीजों के लिए खराब बताकर एडीएसआइसी ने लेने से मना कर दिया. आखिर में नई बिल्डिंग की पहली मंजिल पर बने हॉल में मरीज शिफ्ट करने की सहमति बनी. सीएमएस ने बिल्डिंग की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी लेने को कहा.