-डीएम ने अभिभावक संघ से ज्ञापन लेने के बाद दिया जांच के बाद कार्रवाई का भरोसा

>BAREILLY:

सेंट फ्रांसिस स्कूल्स में मंडे को फेल स्टूडेंट्स के अभिभावकों ने जमकर हंगामा काटा. अभिभावकों का आरोप था कि बच्चों को ट्यूशन न पढ़ाने पर फेल किया गया है. इसको लेकर सुबह से ही दर्जनों की संख्या में पहुंचे अभिभावकों ने घेराव किया. इस दौरान सेंट फ्रांसिस की प्रिंसिपल से उनकी तीखी नोकझोंक भी हुई, लेकिन स्कूल स्टाफ ने उन्हें अंदर नहीं घुसने दिया, और शाम को चार बजे बुलाकर बात की. जिसके बाद सुबह को सभी अभिभावक डीएम से मिले और ज्ञापन देकर स्कूल की जांच कराने के बाद कार्रवाई की मांग की है.

नहीं निकला हल

संजय नगर स्थित सेंट फ्रांसिस स्कूल में सुबह सैकड़ों की संख्या में अभिभावक पहुंच गए. उन्होंने बच्चों को फेल करने का आरोप लगाया और स्कूल में अंदर घुसने का प्रयास करते हुए हंगामा काटकर डीएम से मिलकर अपनी पीड़ा सुनाई. मामला डीएम तक पहुंचने पर स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों को मंडे शाम चार बजे स्कूल बुलाया और वार्ता करनी चाही. लेकिन दोनों पक्षों में बात नहीं बनी. अभिभावक संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि फेल होने वाले स्टूडेंट्स में पांच 9 और 11 के ही क्यों. आरोप है सिर्फ ट्यूशन नहीं पढ़ने वालों को फेल किया गया है.

दो वर्ष में 1386 से 4850 रुपए कर दी फीस

अभिभावक संघ ने डीएम से मुलाकात कर बताया कि सीबीगंज के मालती दलाल नाम से जो स्कूल संचालित था. उस समय उसकी फीस 1386 रुपए थी. लेकिन दो वर्ष से कांपीटेंट ग्रुप ने खरीद लिया और उसे कांपीटेंट स्कूल के नाम से संचालित करना शुरू कर दो वर्ष में फीस को 4850 रुपए कर दिया. वहीं कई निजी स्कूल्स ने कक्षा पांच से लेकर आठ तक के कई बच्चों को फेल किया है जबकि अभिभावक संघ का आरोप है कि नियमानुसार कक्षा आठ तक किसी भी स्टूडेंट्स को स्कूल में फेल नहीं किया जा सकता है. वहीं निजी स्कूल्स के प्रतिवर्ष बुक बदलने का भी विरोध जताया.