लोकल पासपोर्ट ऑफिस में ही होगा स्कैनिंग और अपलोडिंग का काम

पहले इसी काम के लिए गाजियाबाद भेजे जाते थे डाक्यूमेंट्स

जिस काम में एक माह लगता था, अब उसमें लगेगा एक सप्ताह

Meerut. पासपोर्ट सेवा केंद्र में अब लेटलतीफी नहीं होगी. शुक्रवार को यहां स्कैनर लगाकर ट्रायल किया गया. साथ ही नए कंप्यूटर सेट लगाकर केंद्र को अपग्रेड भी किया गया. दावा है कि अब मेरठ में पासपोर्ट सेवा केंद्र पर फाइलों को तैयार करने में लेटलतीफी नहीं होगी. हालांकि अभी भी यहां भवन, बिजली, चौकीदार और अन्य संसाधनों की कमी दूर नहीं हो सकी है.

कम होगा इंतजार

शुक्रवार को गाजियाबाद स्थित पासपोर्ट सेवा केंद्र से टीम आई. यहां पर नए कंप्यूटर सेट इंस्टॉल किए गए और स्कैनर लगाए गए. इनका शाम को ट्रायल भी हुआ. बताया कि अभी तक यहां पर अभ्यर्थियों के कागजात ले लिए जाते थे और थंब इंप्रेशन का कार्य होता था. बाकी कागजात गाजियाबाद पासपोर्ट दफ्तर भेजने होते थे. वहां पर अभ्यर्थियों के कागजात स्कैन कर फाइल तैयार होती थी और फिर वह आगे बढ़ती थी. इस प्रक्रिया में लगभग एक माह का समय लग जाता था. परंतु अब स्कैनर लगने और सिस्टम अपग्रेड होने के बाद पासपोर्ट अभ्यर्थियों की पूरी फाइल यहीं तैयार होगी और वह अपलोड की जाएगी. माना जा रहा है कि जिस कार्य में एक महीने से अधिक का समय लगता था, वह अब एक सप्ताह की अवधि में सिमट जाएगा.

कम हैं सुविधाएं

हालांकि अभी भी कई संसाधनों की यहां कमी है. थ्री फेस बिजली कनेक्शन अभी तक नहीं हो सका है. भवन की हालत जर्जर है. जबकि बराबर में ही खाली पड़े भवन को खाली होने के बाद दिया जा सकता है. साथ ही पासपोर्ट आफिस को शिफ्ट करने की भी बात चल रही है. अभी तक चौकीदार की व्यवस्था भी नहीं हो पाई है.

सभी लोगों को पासपोर्ट बनवाने की काफी जल्दी होती है, उसी को ध्यान में रखते हुए काम में तेजी लाने के लिए स्कैनर की व्यवस्था की गई है.

आकाश तोमर

सहायक पासपोटर् अधिकारी

पासपोर्ट कार्यलय द्वारा बहुत ही अच्छा काम किया गया. इससे पासपोर्ट की प्रक्रिया में तेजी आएगी व जल्द पासपोर्ट भी मिल सकता है.

रबजीत कौर

शहर में पासपोर्ट ऑफिस खोलने से लोगों को बहुत सुविधा हुई है. अब लोगो को और जल्द पासपोर्ट बनकर मिल जाए, इसके लिए भी बहुत अच्छा किया है.

सुधीर कुमार