-स्वच्छता सर्वेक्षण में 4041 शहरों के बीच कांपटीशन, बढ़ेंगे माननीयों के भत्ते

-नगर विकास वि5ाग 51 ला2ा से बनाएगा आश्रय स्थल

PATNA: नगर निकायों में कर्मियों की कमी से काम बाधित हो रहा है. इस ओर सरकार का ध्यान है. इस कमी को दूर करने की दिशा में काम किया जा रहा है. इंजीनियरिंग सेल को एकीकृत कर कमी को दूर करते हुए नई बहाली भी होगी. यह बात नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने कही. नगर विकास के विभिन्न योजनाओं के बारे में प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद ने भी बताया और अन्य ने भी अपनी बातें रखीं.

जनप्रतिनिधियों दिया भरोसा

मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि जनप्रतिनिधि, अधिकारी और पदाधिकारी आश्वस्त रहें, आप सबों की जो भी समस्याएं हैं, उसे वरीयता के आधार पर दूर किया जाएगा. जहां परेशानी होगी, आप पत्राचार, मेल या कॉल कर जानकारी ले सकते हैं. एलईडी स्ट्रीट लाइट योजना बिजली बचत के लिए बेहतर विकल्प मिला है. आप सभी जनता से जुड़ी योजनाओं में दिलचस्पी लेकर पूरा करेंगे, तो आपकी पहचान बनेगी. प्रधान सचिव चैतन्य प्रसाद ने विभिन्न जिम्मेदार अधिकारियों से विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया. खासकर कचरा प्रबंधन, रेसिडेंशियल वेलफेयर ऐसासिएशन, डोर टू डोर कचरा उठाव, प्रोसेसिंग यूनिट, वेस्ट पिंकर्स कबाड़ी वाला, गारबेज वलवेरेबल, वाहनों में जीपीएस, आईसीआई बेस्ड अटेंडेंस में शौचालय और यूरिनल की व्यवस्था, कर्मियों को दस्ताना, बूट गम आदि पर अधिक नंबर पाने के गुर बताए.

शहरी आजीविका योजना

मंत्री और प्रधान सचिव ने स्पष्ट रूप से कहा कि आप सभी रेल स्टेशन, बस स्टैंड आदि पब्लिक प्लेस पर जमीन उपलब्ध कराकर सूचित करें. नगर विकास विभाग 51 लाख की लागत से आश्रय स्थल का तीन मंजिला भवन बनाएगा. गया, बिहारीशरीफ, मुजफ्फरपुर में योजनाएं चल रही है, जबकि अरवल और मधेपुरा में बन कर तैयार है. इसमें फुटपाथ या खुले में सोने वाले को आश्रय दिया जा सकेगा. वेंडिंग जोन के लिए भी फुटपाथ विक्रेता के लिए एक्ट, 2014 बना है. टाउन वेंडिंग कमेटी का गठन कर फुटपाथी दुकानदारों का सर्वे कर सूची बनाएं और उसे वेंडिंग जोन में बनाया जाए. इसमें बार-बार लोगों का नाम नहीं जोड़ा जाए. ऐसे लोगों को पहचान पत्र भी दिया जाएगा. शौचालय निर्माण, पीएम आवास योजना, सीएम के 7 निश्चय के तहत गली-गली योजना आदि के बारे में जानकारी दी गई.

सशक्त और सुदृढ़ बनें निकाय

मंत्री ने कहा कि हर निकाय सशक्त और सुदृढ़ बनाने की दिशा में काम करें. इस दौरान पटना की मेयर सीता साहू, बुडको के एमडी अमरेंद्र प्रसाद सिंह, बीआरजेपी के एमडी राजेश मीणा, पटना नगर निगम के कमिश्नर अभिषेक सिंह आदि मौजूद थे. नमामि गंगे पर संयुक्त सहायक निदेशक अरविंद कुमार झा, बिहार नगर पालिका अधिनियम एवं स्टैंडिंग कमेटी नियमावली के बिंदुओं पर हाजीपुर नप के ईओ सिद्धार्थ हर्षव‌र्द्धन, राजस्व सृजन एवं संग्रहण पर उप सचिव केडी प्रौज्ज्वल, आंतरिक अंकेक्षण संयुक्त सचिव अरविंद कु. झा, ई म्यूनिसपेल्टी पर आईटी मैनेजर अमितेश कुमार, भवन उप विधि, महायोजना, भूसंपदा प्राधिकार, जीआईएस आधारित बेस मैप एवं प्रापर्टी सर्वे पर हरिशंकर सिंह, कुमार सर्वानंद और प्रत्यूष कुमार ने बताया. दूसरा सत्र खुला था. इस दौरान मंत्री और प्रधान सचिव से लोगों ने बिहार के विभिन्न नगर निकायों से आए प्रतिनिधियों ने बिंदुओं पर सवाल-जवाब किए.