- कमिश्नर ने निगम के तीन कर्मचारियों को किया निलंबित

- कमिश्नर के आदेश पर अपर आयुक्त ने की थी जांच

मेरठ. कमिश्नर डॉ. प्रभात कुमार ने नगर निगम के मुख्य कर निर्धारण अधिकारी सहित तीन के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के साथ उन्हें सस्पेंड कर दिया है. गौरतलब है कि तीनों के खिलाफ शिकायत पर कमिश्नर ने जांच कराई थी. जिसमें यह तीनों दोषी पाए गए हैं. इसके अलावा मनमोहन भारद्वाज के खिलाफ भी एफआईआर कराने के आदेश दिए गए हैं.

अपर आयुक्त ने की थी जांच

आर्य नगर कंकरखेड़ा निवासी मधु भारद्वाज ने जनवरी में कमिश्नर से शिकायत की थी. जिस पर कमिश्नर ने अपर आयुक्त राधेश्याम मिश्रा को जांच अधिकारी बनाया था. अपर आयुक्त ने जांच पूरी करते हुए रिपोर्ट कमिश्नर को दी थी. शिकायत पर कमिश्नर की जांच में मुख्य कर निर्धारण अधिकारी असीम रंजन, लिपिक विनोद शर्मा और सुनील सैनी को दोषी पाया.

यह था मामला

गौरतलब है कि मनमोहन भारद्वाज ने एक जमीन को अमित मोहन भारद्वाज को बेच दी थी. नगर निगम द्वारा हाउस टैक्स अमित मोहन भारद्वाज के नाम कर दिया था. लेकिन बाद में निगम के मुख्य कर निर्धारण अधिकारी ने मनमोहन भारद्वाज के साथ मिलकर संपत्ति को दोबारा से मनमोहन भारद्वाज के नाम कर दिया.