क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: उत्तराखंड सरकार गिराने के लिए रांची के अरगोड़ा के कडरू निवासी अमृतेश सिंह चौहान से एक व्यक्ति द्वारा जबरन सबूत मांगने का मामला सामने आया है. इसे लेकर अरगोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. सबूत नहीं देने पर अमृतेश को कई तरह के मामलों में फंसाने की धमकी भी दी गई.

झूठे केस में फंसाने की धमकी

दर्ज प्राथमिकी में अमृतेश ने बताया है कि उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से अच्छे संबंध हैं. इस वजह से उन्हें एक निजी चैनल का मालिक बताकर उमेश कुमार शर्मा ने कॉल किया था. वाट्सएप्प कॉल और मैसेज भेजकर अमृतेश को लोकतांत्रिक सरकार गिराने की गुप्त जानकारी इकट्ठा करने के लिए कहा गया. उमेश कुमार ने कहा कि ऐसा नहीं करने पर ईडी के झूठे केस में फंसा दूंगा. दिल्ली या देहरादून जाकर मिलने का दबाव बनाया. पत्‍‌नी द्वारा कॉल उठाए जाने पर पत्‍‌नी को भी धमकी दी गई.

जेल जा चुका है उमेश कुमार

अमृतेश सिंह ने बताया कि वे प्रदेश किसान मोर्चा के पूर्व उपाध्यक्ष हैं. उत्तराखंड से बेहतर रिश्ता होने की वजह से उनका गलत इस्तेमाल कर साजिश रची गई है. इस वजह से उमेश उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है. पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है. गौरतलब कि उमेश कुमार को उत्तराखंड पुलिस पूर्व में जेल भेज चुकी है. उसके खिलाफ ब्लैकमेलिंग से संबंधित कई मामले दर्ज हैं.