- पीएचक्यू ने सभी 13 जिलों के एसएसपी, एसपी को दिए निर्देश

- सभी जिलों में कोचिंग इंस्टीट्यूट में सेफ्टी को लेकर की जाए जांच

- पुलिस के साथ फायर डिपार्टमेंट को भी दिए गए निर्देश

देहरादून, गुजरात के सूरत में एक मल्टीस्टोरी कोचिंग सेंटर में अग्निकांड में हुई कई स्टूडेंट्स की मौत मामले को देखते हुए उत्तराखंड में भी फायर अलर्ट जारी किया गया है। पुलिस हेडक्वार्टर की ओर से जारी पत्र में सभी जिलों के कप्तानों और सीएफओ को स्पेशल डायरेक्शंस दिए गए हैं कि, जिलों में संचालित कोचिंग सेंटर्स में फायर फाइटिंग सिस्टम की पड़ताल की जाए और लापरवाहों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

फायर गाइडलाइन की न हो अनदेखी

फ्राइडे को सूरत अग्निकांड के बाद सैटरडे को डीजी अशोक कुमार द्वारा इस घटना को देखते हुए राज्य के सभी 13 जिलों के एसएसपी, एसपी व सीएफओ को निर्देश दिए कि उनके जिलों में संचालित कोचिंग सेंटर्स में फायर गाइडलाइन फॉलो कराई जाए। फायर सेफ्टी से कोई समझौता न किया जाए और लापरवाहों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। पीएचक्यू ने सभी जिलों में हकीकत की पड़ताल करने के बाद रिपोर्ट भी तलब की है।

सेफ्टी के लिए दी जाए डेडलाइन

डीजी अशोक कुमार ने बताया कि सभी जिलों के कप्तान और सीएफओ को सभी कोचिंग सेंटर्स की जांच करनी होगी, साथ ही जिन सेंटर्स में फायर फाइटिंग सिस्टम दुरुस्त नहीं होगा, उन्हे व्यवस्था करने के लिए समयसीमा दी जाएगी। इस दौरान सभी कोचिंग सेंटर्स को फायर सेफ्टी के उपाय करने होंगे। इसके बावजूद भी अगर कोचिंग सेंटर्स द्वारा लापरवाही की गई तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।