10 से 12 प्रतिशत के साथ दो साल से नोटबंदी और जीएसटी का दंश झेल रहे व्यापारियों को मिली राहत

MEERUT। अक्षय तृतीया पर पिछले दो साल से नोटबंदी और जीएसटी का दंश झेल रहे सर्राफा कारोबारियों के लिए साल 2019 कुछ राहत भरा रहा। अक्षय तृतीया पर सर्राफा बाजार की खोई हुई रौनक काफी हद तक वापस लौट आई वहीं ज्वैलरी शॉप पर दिनभर ग्राहकों का तांता लगा रहा। ग्राहकों ने अपनी क्षमता अनुसार शुभ मुहूर्त में सोने चांदी व डायमंड के आभूषण खरीदकर अक्षय तृतीया को मनाया। ज्वैलर्स के अनुसार इस बार पिछले साल से 10 से 12 प्रतिशत अधिक बिक्री रही है जो कि पिछले सालों की तुलनात्मक अच्छी ग्रोथ है।

सोने चांदी की ब्रिकी बढ़ी

अक्षय तृतीया में इस बार बुधादित्य योग का शुभ संयोग बना था इस संयोग में सोने या चांदी की खरीदारी शुभ होती है इस संयोग के चलते इस अक्षय तृतीया पर शाम के समय ग्राहकों ने जमकर सोना व चांदी खरीदा। शुभ संयोग के कारण ही इस बार अक्षय तृतीया पर बिक्री में इजाफे का अनुमान लगाया जा रहा है।

10 से 12 प्रतिशत की हुई वृद्धि

सर्राफा व्यापारी व एसोसिएशन के पदाधिकारियों की मानें तो इस बार सोने, चांदी व डायमंड की बिक्री में गत वर्षो की तुलना में 10 से 12 प्रतिशत अधिक इजाफा हुआ है। यह इजाफे के अनुसार इस अक्षय तृतीया शहर में करीब 20 करोड़ से अधिक के कारोबार का अंदाजा लगाया जा रहा है।

बाजारों में रही रौनक

अक्षय तृतीया पर शुभमुहूर्त में खरीददारी के संयोग के चलते शाम के समय ज्वैलरी बाजार में रौनक रही। शहर के प्रमुख ज्वैलरी बाजार जैसे- सर्राफा बाजार, सदर बाजार, वैली बाजार, आबूलेन, बेगमपुल आदि में ज्वैलरी शॉप पर ग्राहकों की भीड़ उमड़ी रही।

इस साल व्यापार अच्छा रहा है। गत वर्षो की तुलना मे 10 से 12 प्रतिशत ग्रोथ का अंदाजा है। सोने, चांदी और डायमंड की अच्छी बिक्री हुई है। करीब 20 करोड के व्यापार का अंदाजा है।

सर्वेश सर्राफ, प्रदेश संगठन मंत्री सर्राफा एसोसिएशन