पांच ट्रिक जो बढ़ा दे स्‍मार्टफोन का बैटरी बैकअप
1. बंद रखें ट्रैकिंग लोकेशन :-
जीपीएस मॉड्यूल यूजर की लोकेशन को लगातार ट्रैक करता रहता है। ऐसे में अगर लोकेशन ट्रैक को ऑफ कर दिया जाए तो बैटरी ड्रेन की समस्‍या से निपटा जा सकता है। अगर आप एंड्रायड यूजर हैं तो Settings > Location में जाकर लोकेशन ट्रैकिंग को डिसेबल कर सकते हैं। वहीं आईओएस यूजर के लिए Settings > Privacy > Location Services ऑप्‍शन मौजूद है।

पांच ट्रिक जो बढ़ा दे स्‍मार्टफोन का बैटरी बैकअप
2. बैटरी चार्ज करने का है सही समय :-
अक्‍सर आपने सुना होगा कि, फोन को तभी चार्जिंग में लगाना चाहिए जब वह पूरी तरह डिस्‍चार्ज हो चुका है। यानी कि 0-5 परसेंट के बीच आने पर ही बैटरी को चार्ज करना चाहिए। हालांकि यह बिल्‍ुकल गलत तथ्‍य है। एक्‍सपर्ट का कहना है, फोन को 30-40 परसेंट तक आते ही चार्ज कर लेना चाहिए, इससे बैटरी की लाइफ बढ़ जाती है। क्‍योंकि माना जाता है कि,  Partial discharge cycle काफी हद तक Full discharge cycle से बेहतर है। ऐसे में अब कभी भी फोन की बैटरी को पूरी तरह डिस्‍चार्ज न करें, इससे बैटरी की क्षमता घटने का खतरा नहीं होता।

पांच ट्रिक जो बढ़ा दे स्‍मार्टफोन का बैटरी बैकअप
3. डिस्‍प्‍ले ब्राइटनेस कम रखें :-
यह टिप्‍स स्‍मार्टफोन और लैपटॉप दोनों यूजर्स के लिए कॉमन है। ज्‍यादातर डिवाइसेस में ब्राइटनेस सेटिंग को आसानी से एक्‍सेस किया जा सकता है। यानी कि आप चाहें तो किसी भी डिवाइस की डिस्‍प्‍ले ब्राइटनेस को कम या ज्‍यादा किया जा सकता है। अगर बैटरी को बचाना है तो ब्राइटनेस को थोड़ा कम ही रखें तो बेहतर है। इसे आप डिस्‍प्‍ले सेटिंग में जाकर चेंज कर सकते हैं।

पांच ट्रिक जो बढ़ा दे स्‍मार्टफोन का बैटरी बैकअप
4. पुश नोटिफिकेशन बंद कर दें :-
अगर आपको लगता है कि बैटरी 30 परसेंट के आसपास बची है, तो सभी पुश नोटिफिकेशन को ऑफ कर दें। जैसे कि फेसबुक या कई मैसेंजर एप्‍स आदि का पॉप-अप ऑन रखने पर यह एनर्जी को कंसीड करता है। आपके फोन में जितनी बार पॉप-अप नोटिफिकेशन आएगा, वह कुछ न कुछ बैटरी जरूर खाएगा। ऐसे में जब आप कहीं ट्रैवल कर रहे हैं और बैटरी लगभग खत्‍म होने वाली हो, तो सभी नोटिफकेशन ऑफ कर दें।

पांच ट्रिक जो बढ़ा दे स्‍मार्टफोन का बैटरी बैकअप
5. वाइब्रेट पर न रखें :-
अक्‍सर देखने को मिलता है, कि स्‍मार्टफोन यूजर्स रिंगटोन को म्‍यूट करके फोन वाइब्रेंट पर रखते हैं। लेकिन आपको बता दें कि वाइब्रेंट होने पर बैटरी ज्‍यादा खर्च होती है।

Technology News inextlive from Technology News Desk

Technology News inextlive from Technology News Desk