क्षतिग्रस्त सड़कों से गुजरने को मजबूर कांवडि़ये, गहरे-गहरे गड्ढे

अव्यवस्थाओं के बीच कांवड़ यात्रा आरंभ, 3 से 9 तक बंद रहेंगे स्कूल

Meerut. 'कांवड़ यात्रियों की श्रद्धा के साथ प्रदेश सरकार है, आस्था से सराबोर इन श्रद्धालुओं के ऊपर सरकार के हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा करेगी.' सीएम योगी आदित्यनाथ की घोषणा के बाद शासन स्तर पर बड़ी कवायद करके यात्रा के दौरान 5 दिन तक कांवडियों पर पुष्पवर्षा के लिए हेलीकॉप्टर का बंदोबस्त तो हो गया किंतु कांवडियों में राह में पड़े शूल हटाने के प्रयास अब तक नहीं हुए हैं, कांवडि़ये इस बार थी टूटी सड़कों और सड़कों पर बने गहरे गड्ढों से गुजरेंगे.

अव्यवस्थाओं के बीच यात्रा

अव्यवस्थाओं के बीच कांवडि़ये सड़क से गुजर रहे हैं तो वहीं आलाकमान स्तर पर तैयारियों के दावे धूल फांक रहे हैं. नगर निगम सीमा में ज्यादातर सड़कें क्षतिग्रस्त हैं तो वहीं एनएच 58 पर जगह-जगह गहरे गड्ढे हैं. प्रशासन का दावा है कि इस बार सर्वाधिक कांवडि़ये गंग नहर कांवड़ पटरी मार्ग से गुजरेंगे, ऐसे में हाल यह है कि ज्यादातर कांवड़ पटरी मार्ग क्षतिग्रस्त है. पीडब्ल्यूडी को हैंडओवर होने के बाद एनएच 58 के मेंटीनेंस से एनएचएआई ने हाथ खड़े कर दिए हैं तो वहीं नगर निगम के अफसर भी आंख मूंदे हैं. हालांकि जानकारी के बाद डीएम अनिल ढींगरा ने विभागों को लताड़ लगाई तब जाकर एक-दो स्थान पर पैचवर्क शुरू हुआ.

इनके दावे हैं खोखले

डीएम के निर्देश पर विभिन्न विभागों को कांवड़ यात्रा की तैयारी का जिम्मा दिया गया था. इसके तहत बिजली विभाग को कांवड़ मार्ग में पड़ने वाले बिजली के पोल को पॉलीथिन से कवर करना था. आलम यह है कि बिजली विभाग में कांवडि़यों के लिए आरक्षित मार्ग पर स्थित बिजली के पोल नहीं ढके हैं. वहीं निर्धारित ऊंचाई तक पॉलीथिन को पोल पर नहीं बांधा गया है. सरकार की शीर्ष प्राथमिकता में शामिल कांवड़ यात्रा में बिजली विभाग की लापरवाही और अफसरों का झूठे दावे करना आश्चर्यजनक है. बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता जेके गुप्ता ने एडीएम सिटी मुकेश चंद्र को सौंपे पत्र में ऐलान किया है कि 7 फीट ऊंचाई तक पोल को पॉलीथिन से कवर कर दिया गया है.

ध्वस्त हो गई बेरीकेडिंग

कांवड़ मार्ग पर ट्रैफिक को रोकने के लिए एमडीए की बेरीकेडिंग एक दिन में ही ध्वस्त हो गई. टूटे ड्रमों पर बांस को टिकाकर एमडीए ने बेरीकेडिंग बना दी जो सड़क पर गुजरने वालों के लिए राहत से ज्यादा आफत लेकर आई. डीएम के संज्ञान लेने के बाद एमडीए अफसरों ने मौके पर दौड़ लगा दी. एमडीए वीसी साहब सिंह ने इस बाबत अधिकारियों से स्पष्टीकरण तलब कर लिया तो वहीं ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं.

नगर निगम और पीडब्ल्यूडी को क्षतिग्रस्त सड़कों को तत्काल बनाने के आदेश दिए गए हैं. बिजली विभाग ने पोल्स को पूरी तरह से पॉलीथिन से कवर नहीं किया था,उन्हें तत्काल पोल को पॉलीथिन से कवर करने के लिए कहा है. मजबूत बेरीकेडिंग अब लगाई जाएगी, ड्रम और बल्लियों को हटाने के आदेश दिए गए हैं. नगरायुक्त को नियमित सफाई के आदेश भी दिए गए हैं. विभागों की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

अनिल ढींगरा, डीएम, मेरठ