patna@inext.co.in
PATNA : अब सोशल मीडिया पर फेक सूचनाओं को वायरल किया तो आपकी खैर नहीं होगी। पुलिस पड़ताल करते हुए आप तक पहुंच जाएगी और फिर केस दर्ज कर वैधानिक कार्रवाई करेगी। ऐसे मामलों में आपको जेल तक हो सकती है। सोशल मीडिया पर निगरानी के लिए डीजीपी केएस द्विवेदी ने साइबर सेनानी ग्रुप तैयार कराया है। इस ग्रुप के माध्यम से ही अब लोगों की मॉनीटरिंग की जाएगी।

डीजीपी ने जारी कर दिया आदेश
ग्रुप में किस तरह के लोगों को शामिल करना है और उनकी योग्यता क्या होगी। इसे लेकर डीजीपी ने आदेश जारी कर दिया है। बिहार पुलिस के अफसरों को उम्मीद है कि वॉट्सएप ग्रुप के जरिए सीधे पब्लिक से जुडऩे और जानकारी हासिल करने का मौका मिलेगा। डीजीपी के इस नए कदम से अफवाह और अविश्वसनीय मैसेज को फैलने से रोका जा सकेगा और कार्रवाई भी हो सकेगी।

ऐसे काम करेगा ग्रुप
* साइबर सेनानी समूह के लिए पहला ग्रुप थाना लेवल पर बनेगा। इसमें साफ सुथरी छवि वाले 100 लोगों को मेंबर बनाया जाएगा।
* एरिया के एसडीपीओ को भी इसमें बतौर मेंबर जोड़ा जाएगा।
* दूसरा ग्रुप सब डिवीजन लेवल पर इलाके के एसडीपीओ बनाएंगे।
* यह ग्रुप  कम से कम 200 लोगों का होगा।
* इस ग्रुप में जिले के एसपी भी रहेंगे।
* तीसरा ग्रुप डिस्ट्रिक्ट लेवल पर होगा।
* तीसरे ग्रुप को एसएसपी या जिले के एसपी बनाएंगे।
* इसमें पब्लिक के साथ एसडीपीओ, थानेदार और दूसरे पुलिस अधिकारी शामिल होंगे।

ऐसा है डीजीपी का ह्रश्वलान
* थ्री लेयर पर होगी सोशल मॉनीटरिंग
* सोशल मीडिया के साइड इफेक्ट से बचने के लिए तीन लेयर पर 'साइबर सेनानी ग्रुप बनाया जाएगा।
* यह वाट्सएप पर काम करेगा।
* एक ग्रुप थाना लेवल पर और दूसर गु्रप एसडीपीओ व डीएसपी लेवल पर होगा।
* तीसरा ग्रुप एसएसपी एसपी के स्तर पर संचालित किया जाएगा।
* सोशल मीडिया के तेजी से बढ़ते दुष्प्रभाव पर यह ग्रुप नजर रखेगा।
* सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार की अफवाह न फैले इस पर पूरा फोकस होगा।

साइबर हमला : फौजी के खाते से उड़ा लिए 9.47 लाख

UIDAI हेल्पलाइन नंबर के स्मार्टफोन में आॅटो सेव होने पर गूगल की सफार्इ नहीं उतर रही गले, उठ रहे ये सवाल

Crime News inextlive from Crime News Desk