BAREILLY: रबड़ फैक्ट्री में बाघ को रेस्क्यू किए जाने के एकदम करीब टीम पहुंच चुकी है. उसका बेडरूम, ड्राइंगरूम, सिटिंग रूम की तस्दीक कर ली गई है. इनकी पहचान सीसीटीवी फुटेज से की गई है. चीफ कंजर्वेटर पीपी सिंह का कहना है कि अगले 48 घंटे के अंदर बाघ को इन्हीं में से किसी एक इलाके में पकड़ लेंगे, जिसकी पूरी तैयारी हो चुकी है. बता दें कि देर शाम हुई मीटिंग में चीफ कंजर्वेटर ने सभी टीमों को वेडनसडे की रात रिकॉर्ड हुए बाघ के मूवमेंट को देखकर वहां सुबह ही ट्रैप बिछाने के निर्देश दिए हैं.

बाघ के बेडरूम के पास रखा बेट

आहिस्ता-आहिस्ता बिछाए गए ट्रैप में बाघ घिरता जा रहा है. रबड़ फैक्ट्री की जमीन पर डेरा जमाए हुए बाघ को पकड़ने के लिए टीम ने बेट यानि चारे को उसके और नजदीक पहुंचा दिया है. ट्यूजडे की रात बाघ को पकड़ने के लिए रखे गए चारा 'भैंसे' को बाघ ने मार दिया. हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि रबड़ फैक्ट्री के कुत्ते जंगली हो चुके हैं. जिन्होंने भैंसे को नोंचकर मार डाला. वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया 'डब्ल्यूटीओ' की विशेष टीम के मुताबिक बाघ धीरे-धीरे सहज होता जा रहा है. ऐसे में, चारा को उसके बेडरूम यानि जहां बाघ रात में अक्सर पहुंचकर आराम करता है उसके नजदीक कर दिया गया है. ताकि उसे उसके ही इलाके में पकड़ा जा सके.

बाघ की हर गतिविधि सीसीटीवी फुटेज में रिकॉर्ड हो चुकी है. जिसके आधार पर उसके बेडरूम, ड्राइंगरूम और सिटिंग रूम को ट्रेस कर लिया गया है. हमारी पूरी तैयारी है. संभावना है कि अगले 48 घंटे में बाघ पकड़ लिया जाए.

पीपी सिंह, चीफ कंजर्वेटर