lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: देश के लोकप्रिय रक्षामंत्री में शुमार किए जाने वाले जॉर्ज फर्नांडीज को यूपी से बेहद लगाव था। वह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के साथ यूपी आने का कोई भी अवसर नहीं गंवाते थे। इसकी एक वजह यहां के राजनेताओं से उनकी मित्रता भी थी जिनमें सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का नाम सबसे पहले आता है। लोहिया के विचारों से प्रेरित होकर राजनीति में कदम रखने वाले जॉर्ज फर्नांडीज इससे पहले श्रमिक आंदोलनों को लेकर भी यूपी में सक्रिय रहे थे। यही वजह है कि उनके निधन की सूचना ने उनके तमाम चाहने वालों को दुखी कर दिया। राज्यपाल और मुख्यमंत्री के अलावा हर दल के नेता ने उनको श्रद्धांजलि दी है।

राजनीति का तूफान थमा
दरअसल यूपी से ताल्लुक रखने वाले तमाम पुराने राजनेताओं से जॉर्ज फर्नांडीज की नजदीकियां जनता पार्टी का हिस्सा बनने के बाद हुई। इसी मित्रता की बदौलत वह कई बार भाजपा के खेवनहार भी बने तो एक बार मुलायम की सरकार बनाने में मदद भी की। वहीं सक्रिय राजनीति से अलग होने के बाद जब वह बीमार पड़ गये तो सिर्फ मुलायम सिंह यादव उनका इलाज कराने आगे आए थे। उनके निधन पर राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, प्रसपा के शिवपाल सिंह यादव, एमएलसी यशवंत सिंह समेत तमाम नेताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित की है। राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा कि जार्ज फर्नांडीज के निधन से राजनीति का एक तूफान थम गया। वे सदन में जनता एवं कामगारों की सशक्त आवाज थे। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जॉर्ज फर्नांडीस की पहचान एक संघर्षशील श्रमिक नेता के रूप में भी थी। उन्होंने हमेशा मजदूरों और मेहनतकश वर्ग के अधिकारों की आवाज बुलंद की।

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का निधन, 8 बार जीते थे लोकसभा चुनाव, कुछ ऐसा था उनकी जिंदगी का सफरनामा

National News inextlive from India News Desk