कारागार के सर्किल पांच स्थित बैरक नंबर एक में शिफ्ट किए गए

समर्थकों से मिले बगैर गेट पर गाड़ी रुकते ही खुद चले गए अंदर

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद शनिवार को बरेली जेल से नैनी सेंट्रल जेल पहुंच गये। सुबह नौ बजे उन्हें लेकर पुलिस नैनी जेल पहुंची। अतीक से मिलने के लिए कारागार के बाहर उनके समर्थकों का तांता लगा रहा। इसके बाद भी उन्होंने किसी से मुलाकात नहीं की और सीधे अपने बैरक में चले गये। नैनी कारागार के सर्किल पांच में बैरक नंबर एक में उन्हें रखा गया है। इसमें वह पहले भी रह चुके हैं।

चुनाव आयोग ने दी थी अनुमति

शुआट्स (सैम हिग्गिनबॉटम युनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चरल एंड साइंस) में हुए बवाल में नामजद होने के चलते 2017 में अतीक के बुरे दिन शुरू हो गये। सपा ने कानपुर से उनका टिकट काट दिया और खुद सरेंडर होने नैनी थाने पहुंचे अतीक को पुलिस ने जेल भेज दिया। जेल से मुकदमे के गवाहों को धमकाने के साथ कुछ अन्य मामले सामने आने के बाद उन्हें देवरिया जेल भेज दिया गया था। देवरिया जेल के अंदर उन पर प्रापर्टी डीलर की पिटाई के आरोप लगे थे। इसके बाद उन्हें बरेली जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। विशेष कोर्ट एमपी एमएलए प्रयागराज में अतीक अहमद के 26 मुकदमों की सुनवाई चल रही है। अतीक को सुनवाई के दौरान प्रयागराज कोर्ट लाया जाता था। प्रदेश सरकार ने चुनाव आयोग से अनुमति लेकर अतीक को नैनी जेल शिफ्ट किए जाने का आदेश दिया।

सख्त सुरक्षा में लेकर पहुंची पुलिस

शुक्रवार की रात कड़ी सुरक्षा में वह बरेली जेल से प्रयागराज के लिए निकले। अतीक नैनी पहुंचे तो समर्थक स्वागत के लिए खड़े मिले। लेप्रोसी चौराहा, गंजिया मार्ग, बेथनी कांवेंट के पास रोड किनारे गाडि़यां खड़ी समर्थक इंतजार करते रहे। अतीक की गाड़ी पुलिस ने सीधे नैनी जेल पहुंचने पर ही रोकी।

दिन भर गर्म रहा अटकलों का बाजार

पूर्व सांसद अतीक अहमद के नैनी जेल पहुंचते ही अटकलों का बाजार गर्म हो गया है। चाय पान की दुकान से लेकर सोशल मीडिया तक पर अतीक अहमद के फूलपुर से निर्दलीय चुनाव लड़ने की चर्चा शुरू हो गई है। हालांकि, उनके परिवार या खुद अतीक अहमद की ओर से चुनाव लड़ने जैसी कोई बात नहीं कही गई है।