लाहौर (पीटीआई)। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को मंगलवार देर रात लाहौर हवाई अड्डे पर सुरक्षा अधिकारियों ने देश छोड़ने से रोक दिया। फेडरल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी ने बताया कि गिलानी एक सम्मेलन में भाग लेने के लिए बैंकॉक के माध्यम से दक्षिण कोरिया जाने के लिए अपनी फ्लाइट पकड़ने के लिए लाहौर के अल्लामा इकबाल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचे थे। चूंकि उनका नाम नो-फ्लाई लिस्ट में था, इसलिए उन्हें देश छोड़ने से रोक लिया गया। एफआईए ने कहा कि इमिग्रेशन काउंटर पर, गिलानी को बताया गया कि उनका नाम ब्लैक लिस्ट में रखा गया है, इसलिए वह देश नहीं छोड़ सकते हैं। इसके साथ फेडरल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी ने उन्हें यह भी बताया वह सिर्फ गृह मंत्रालय के आदेश का पालन कर रहे हैं।

मौजूदा सरकार के फैसले के खिलाफ जायेंगे अदालत
इस पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया देते हुए पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के नेता यूसुफ रजा गिलानी ने कहा, 'मैं हमेशा अपने खिलाफ चल रहे विभिन्न मुकदमों में अदालत में पेश होता हूं। मेरा नाम नो-फ्लाई सूची में रखने का कोई मतलब नहीं है। मैं देश से नहीं भाग रहा था। प्रधानमंत्री इमरान खान अपने राजनीतिक विरोधियों को लगातार निशाना बना रहे हैं। मौजूदा सरकार को मुझे इस बात की जानकारी देनी चाहिए थी कि मेरा नाम ब्लैक लिस्ट किया गया है। मैं सरकार के इस गलत निर्णय को अदालत में चुनौती दूंगा।' बता दें कि गिलानी फिलहाल पाकिस्तान में कई भ्रष्टाचार के मामलों का सामना कर रहे हैं। उनपर अपने अधिकारों का दुरूपयोग कर एक ऐड कंपनी को आर्थिक फायदा पहुंचाने का मामला चल रहा है।

आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान को चीन फिर देगा 2.5 बिलियन डॉलर का लोन

पाकिस्तान : जेल में जांच करने वाले डॉक्टरों का भी सुझाव, नवाज शरीफ को जल्द ही अस्पताल में किया जाना चाहिए शिफ्ट

International News inextlive from World News Desk