पीएम मोदी की बालिका समृद्धि योजना के नाम पर वायरल हो रहा फेक मैसेज

बालिकाओं को 10 हजार रुपये के चेक का दिया जा रहा है लालच

10 व्हाट्सऐप ग्रुप में मैसेज वायरल करने पर रजिस्ट्रेशन का लालच

Meerut. इन व्हाट्सऐप पर पीएम मोदी की एक योजना के नाम पर मैसेज खूब वायरल हो रहा है, जिसमें लोगों को लालच दिया जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी की ओर से एक से 18 साल की बालिकाओं को समृद्धि योजना के तहत दस हजार रुपये का चेक वितरित करेंगे. इसके लिए आपको यह मैसेज 10 व्हाट्सऐप ग्रुप में वायरल करना होगा. मैसेज वायरल होने पर इस योजना के तहत उनका रजिस्ट्रेशन हो जाएगा. इसके बाद उन्हें 10 हजार रुपये मिल जाएंगे.

आ गई चार शिकायतें

इस तरह के मैसेज के बारे में एसपी क्राइम शिवराम यादव ने बताया कि पिछले एक हफ्ते में चार शिकायतें आ गई है. इस मैसेज के रिकार्ड निकलवाए जा रहे हैं. इस तरीके के मैसेज फेक हैं.

खूब हो रहा वायरल

मैसेज के मुताबिक प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना 2018 के तहत प्रधानमंत्री मोदी की ओर से 1 से 18 साल की बालिका को निशुल्क 10 हजार का चेक दिया जाएगा. बालिकाओं के भविष्य के लिए एक योजना चालू की गई है.आवेदन करने के एक लिंक भी दिया गया है. लिंक खोलते ही उसमें सबसे पहले कन्या का नाम,आवेदक का नाम, राज्य की डिटेल मांगी जा रही है

मिलेगा रजिस्ट्रेशन नंबर

कहा जा रहा है कि वह इस मैसेज को 10 वाट्स ग्रुपों में वायरल करे. इसके बाद रजिस्ट्रेशन नंबर मिल जाएगा. लेकिन कई लोगों ने कई बार यह मैसेज वायरल कर दिया, लेकिन उनका रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं मिला.

हो सकता है डाटा चोरी

एसपी क्राइम शिवराम यादव ने बताया कि इस तरह के यह फेक मैसेज होते है. इन मैसेजों के माध्यम से मेल का डाटा चोरी किया जाता है. इसके बाद उसका गलत प्रयोग होता है.

यह कहता है कानून

भारतीय साइबर कानून में किताबें, लेख, वीडियो चित्र, लोगो, और दूसरे क्रिएटिव मैटेरियल का बिना इजाजत इस्तेमाल करना अपराध है. वहीं, कानून 1957 की धारा - 14,63 बी के मुताबिक आरोपी को सात दिन से तीन साल की जेल या 50 हजार रुपये से दो लाख रुपये तक जुर्माना देने का प्रावधान है.