- तेनुआ टोल प्लाजा के पास मिली थी ड्राइवर की डेड बॉडी

- गोंडा के गैंग ने की वारदात, चार अरेस्ट, एक की जारी तलाश

GORAKHPUR: फोरलेन के तेनुआ टोला प्लाजा के पास ट्रक ड्राइवर की हत्या कर लाखों रुपए कीमत की सरिया लूटने वाले गैंग के चार सदस्यों को पुलिस ने अरेस्ट किया. दो सगे भाईयों सहित चार लोगों ने ड्राइवर का मर्डर कर करीब 10 टन सरिया लूटा था. गिरवी रखे गए खेत की भूमि को छुड़ाने के लिए घटना की साजिश रची गई. एसएसपी शलभ माथुर ने बताया कि करीब एक माह से बदमाश अपना टारगेट तलाश रहे थे. अपनी पहचान छिपाने के लिए बदमाशों ने लूट के दौरान ट्रक ड्राइवर के चलते ट्रक में हत्या कर डेडबॉडी फेंकी थी. अभियुक्तों की गिरफ्तारी पर आईजी ने 50 हजार रुपए का ईनाम घोषित किया था. घटना में फरार एक आरोपी की पुलिस टीम तलाश कर रही है.

घास से डेड बॉडी ढककर हो गए थे फरार

खजनी एरिया के फोरलेन, तेनुआ टोल प्लाजा के पास 14 अगस्त सुबह एक डेडबॉडी मिली. उसकी पहचान सिद्धार्थनगर जिले के इटवा, कटेया निवासी सुरेश कुमार के रूप में हुई. उसके भाई शिवपूजन ने पुलिस बताया कि सुरेश कुमार ट्रक चलाता था. एक आर्मी अफसर का सामान लेकर वह पंजाब से पटना पहुंचाने गया था. 12 अगस्त को पटना से 10 टन सरिया लादकर नौतनवां पहुंचाने की जिम्मेदारी मिली. रास्ते में बदमाशों ने उसकी हत्या कर ट्रक लदा सरिया लूट लिया. दो-तीन दिनों की दौड़ भाग में पुलिस ने लावारिस हाल ट्रक बरामद कर लिया. सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की मदद से लूटकांड के पर्दाफाश में जुट गई. शुक्रवार को पुलिस ने रामनगर कड़जहां के पास एक ट्रक की चेकिंग में गोंडा जिले के भड़वनपुरवा निवासी विजय पाल, उतरौला के सुभाष, पांडेयपुरवा मोहल्ले के मेलाराम और अभिषेक सोनी को अरेस्ट किया. पूछताछ में चारों ने पुलिस को बताया कि अपने पांचवें साथी शेषनारायण संग मिलकर उन लोगों ने ट्रक ड्राइवर सुरेश की हत्या कर दी. सरिया लूटकर गोंडा में तीन हजार रुपए प्रति क्विंटल बेच दिया. शेषनारायण और मेलराम सगे भ्ाई हैं.

माल लेकर साथ चले, रास्ते में कर दी वारदात

पुलिस की जांच में पता लगा कि सुभाष का खेत गिरवी रखा था. खेत छुड़ाने के लिए उसे रुपए की जरूरत थी. चार साल से वह इस ताक में लगा था कि कहीं से पैसे मिल जाएं. 12 अगस्त को पटना में एक ही फर्म से सुरेश कुमार और सुभाष के साथियों ने सरिया लोड किया. अपने ट्रक पर सुरेश अकेले था. इसलिए सुभाष, मेलाराम और उसके बड़े भाई शेषनारायण ने सुरेश से दोस्ती कर ली. वह ट्रक लेकर देवरिया के पास पहुंचा तो वहां पर सभी भोजन करने के लिए रुके. तभी इन तीनों ने शराब में नशीली चीज मिलाकर सुरेश को पिला दी. नशे में होने पर सुरेश ने गाड़ी चलाने में मदद मांगी. मौका मिलने पर तीनों ने चलती ट्रक में सुरेश का गला दबाकर हत्या कर दी. तेनुआ टोल प्लाजा के पास डेड बॉडी फेंककर ट्रक लूट ले गए. गोंडा के परसपुर निवासी सरिया कारोबारी अभिषेक कुमार को तीन लाख में सरिया बेच दिया. एसएसपी ने बताया कि ट्रक, 21 कुंतल सरिया, एक लाख 17 हजार रुपए नकद, डंडा और डाइविंग लाइसेंस बरामद किया गया है. सरिया खरीदने वाले अभिषेक काफी शातिर है. उसने अपने अपहरण की साजिश रचकर परिवार के लोगों से रुपए ठगने की कोशिश की थी.

वर्जन

ट्रक ड्राइवर की हत्या सरिया लूटने के इरादे से की गई थी. ट्रक ड्राइवर सुरेश ने सबको पहचान लिया था. इसलिए बदमाशों ने उसकी हत्या कर दी. सरिया खरीदने वाले व्यापारी सहित चार लोगों को पुलिस ने अरेस्ट किया है. एक अन्य बदमाश की तलाश चल रही है.

शलभ माथुर, एसएसपी