- शताब्दी नगर, रतनपुर व आसपास मोहल्लों में केडीए ने हजारों फ्लैट व प्लॉट डेवलप किए

-बड़ी टाउनशिप की तरह डेवलप हो चुके शताब्दी नगर में कनेक्टिविटी की है बड़ी प्रॉब्लम

-रास्ते में रोड़ा बनी दिल्ली रेलवे लाइन पर 4 लेन अंडरपास बनाने को रेलवे ने दी एनओसी

-डिजायन के साथ 24 करोड़ से अधिक एस्टीमेट भी केडीए को सौंपा, जल्द शुरू होगा काम

kanpur@inext.co.in

KANPUR: शताब्दी नगर, रामगंगा इंक्लेव, रतनपुर आदि के हजारों एलॉटीज के लिए अच्छी खबर है. ये मोहल्ले सीधे भौंती-रूमा नेशनल हाईवे से जुड़ेंगे. इसके लिए दिल्ली-हावड़ा रेलवे लाइन पर 4 लेन अंडरपास बनाया जाएगा. इसके लिए रेलवे ने ग्रीन सिग्नल दे दिया है. इस प्रोजेक्ट पर 24 करोड़ से अधिक खर्च होने का अनुमान हैं.

लाखों की आबादी

केडीए ने पनकी गंगागंज, रतनपुर आदि गांवों की जमीन पर रतनपुर, रतनपुर विस्तार, शताब्दी नगर, रामगंगा इंक्लेव, जवाहरपुरम आदि हाउसिंग स्कीम डेवलप की है. इनमें हजारों की संख्या में प्लाट्स हैं. इसके अलावा शताब्दी नगर केडीए ड्रीम्स में 1200 टू बीएचके फ्लैट, 7360 अफोर्डेबल हाउसिंग फ्लैट, 5 हजार समाजवादी फ्लैट, महावीर नगर एक्सटेंशन में 5040 प्रधानमंत्री आवास योजना के फ्लैट आदि हैं.

हाईवे से कनेक्टिविटी की मांग

हजारों की संख्या में प्लॉट व फ्लैट होने की वजह से शताब्दी नगर व आसपास के मोहल्ले एक बड़ी टाउनशिप की तरह डेवलप हो चुके हैं. पर इस टाउनशिप के लिए एक बड़ी समस्या कनेक्टिविटी की है. ये टाउनशिप पनकी-कल्याणपुर रोड से जरूर जुड़ी है. पर फोरलेन नेशनल हाइवे से कनेक्टिविटी की मांग की जा रही है. नेशनल हाइवे से कनेक्टिविटी के रास्ते में बड़ी समस्या दिल्ली-हावड़ा रेलवे लाइन हैं. इस समस्या के हल के लिए केडीए ने सर्वे कराया.

45 मीटर रोड, 4 लेन अंडरपास

सर्वे में 45 मीटर चौड़ी रोड के अलावा 4 लेन रेल अंडरपास बनाने का प्रपोजल तैयार किया गया. शताब्दी नगर में 45 मीटर चौड़ी रोड तो केडीए ने बनानी शुरू कर दी और 4 लेन रेल अंडरपास के लिए रेलवे से एनओसी के साथ एस्टीमेट मांगा. केडीए ऑफिसर्स के मुताबिक नार्थ सेंट्रल रेलवे ने 4 लेन रेल अंडरपास के लिए एनओसी दे दी है. इसके साथ ही रेल अंडरपास बनाने के लिए 24 करोड़ से अधिक का एस्टीमेट भी केडीए को सौंपा है. इससे केडीए के ऑफिसर्स के चेहरे चमक गए हैं. नेशनल हाइवे से ये हाउसिंग स्कीम कनेक्ट होने से उन्हें अब रिस्पांस और अधिक मिलने की उम्मीद हो गई है. फिलहाल केडीए के ऑफिसर्स एस्टीमेट और डिजायन को लेकर मंथन शुरू कर दिया है.