फुल एमाउंट देने बाद भी फिर से की 1100 रूपये की डिमांड

वीडियोग्राफी करते हुए खोला पैकेट तो निकली खाली डिब्बी

आगरा. आप ऑनलाइन महंगे प्रॉडक्ट न खरीदें तो बेहतर होगा. आपके साथ फ्रॉड भी हो सकता है. शहर के एक नागरिक को 43 हजार रूपये की चपत लगी है. उसने ऑनलाइन अंगूठी मंगाई, लेकिन जब पार्सल घर आया तो उसमें खाली डिब्बी निकली. पीडि़त ने वीडियोग्राफी के बीच पार्सल खोला. अब पुलिस ने भी उसे फुटबॉल बना दिया है. एसएसपी के आदेश के बाद वह संबंधित कंपनी के खिलाफ केस दर्ज कर सका है.

ऑन लाइन दिया था आर्डर

थाना ताजगंज क्षेत्र बंसल नगर फतेहाबाद रोड निवासी राहुल आनंद ने 18 जनवरी को कैरिट लेन ट्रेडिंग प्रा लि. ऑनलाइन कंपनी के यहां से एक रिंग ऑन लाइन ऑर्डर की. अंगूठी की कीमत 42633 रुपये बताई गई. उसने ऑन लाइन पेमेंट कर दिया. इसके बाद भी रिंग नहीं आई. कॉल किया तो बोला गया कि इसी महीने आ जाएगी. लेकिन महीना निकलने के बाद भी कोई पार्सल नहीं आया.

अतिरिक्त रुपये कराए जमा

रिंग न आने पर कंपनी कॉल किया तो बोला गया कि 1185 रुपये और जमा कराने होंगे. इसके बाद रिंग आएगी. राहुल ने फिर से रुपये जमा करा दिए. फिर भी रिंग नहीं आई. राहुल ने 17 फरवरी को कॉल किया तो बोला कि डिस्पैच कर दिया है. एक दो दिन में पार्सल आ जाएगा. दो-तीन दिन बाद डाकिया पार्सल लेकर घर पहुंच गया. राहुल को पहले से शक था. इसके चलते उसने वीडियोग्राफी करते हुए पार्सल खोला. पार्सल खुला तो उसके होश उड़ गए. पार्सल में अंगूठी की डिब्बी थी, लेकिन उसमें अंगूठी नहीं निकली. उसने कंपनी से संपर्क किया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. कंपनी ने कहा उनके यहां भी वीडियोग्राफी होती है. राहुल ने भी वीडियो बनाने की बात बताई.

इधर, पुलिस ने लगवा दिए चक्कर

पीडि़त इसके बाद थाना ताजगंज पहुंचा. यहां पर पुलिस ने एफआईआर करने से इनकार कर दिया. मजबूर होकर उसने ऑन लाइन शिकायत दर्ज की. शिकायत एसएसपी के पास पहुंची. एसएसपी ने सीओ सदर को जांच के लिए आदेश दिया. पीडि़त के मुताबिक इसके बाद सीओ ने फोन कर उसे बुलाया और मामले में एफआईआर दर्ज हो सकी.