शॉपिंग करने के नाम पर फर्जी लकी ड्रॉ निकालने का चल रहा खेल

वॉलेट वेबसाइट में जमा रकम पर रहती है साइबर शातिरों की नजर

आगरा. आपका डिजीटल वॉलेट अब सेफ नहीं है. इधर, आपने अपना कोड या पासवर्ड आदि किसी दूसरे बंदे से शेयर किया, वहीं दूसरी तरफ आपके वॉलेट में डिपॉजिट रकम उड़ जाएगी. लगातार इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं. साइबर सेल के एक्टिव रहने से यूं तो रकम वापिस मिल रही है, लेकिन तात्कालिक रूप से साइबर के शातिर लोगों को चूना लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. गुरूवार को भी ऐसा ही एक मामला सामने आया तो साइबर सेल ने शातिरों की तलाश करने में जुट गई है. फिलहाल मामले में जांच चल रही है.

लकी ड्रॉ का आया कॉल

प्रोफेसर कॉलोनी निवासी आभा मखीजा पत्‍‌नी अश्वनी कुमार के साथ साइबर फ्रॉड हुआ है. इनके बेटे अर्पित ने बताया कि वह पिता के साथ शू कारोबार करते हैं. बुधवार की सुबह 11 बजे मां आभा मखीजा के पास एक अज्ञात नंबर से कॉल आया. कॉल करने वाले ने खुद को पेटीएम से बताया साथ ही उसने बताया कि आप 43 इंच एलईडी की विजेता हैं. आपका लकी ड्रा निकला है.

वॉलेट में कराए रुपये जमा

युवक ने बताया कि टीवी आपको तब मिलेगा जब आप 5389 रुपये की शॉपिंग करेंगे. इस पर उन्होने शातिर द्वारा बताए सामान से दो सामान खरीद लिए. फिर शातिर द्वारा दिए नंबर पर रुपये पेटीएम कर दिए. इसके बाद फोन कट गया. परिजन टीवी मिलने का इंतजार करने लगे. दूसरे दिन तक सामान घर पर नहीं आया. गुरुवार दोपहर फिर से कॉल आई. इस दफा कॉल दूसरे नंबर से आई. शातिर ने इस बार जीएसटी के नाम पर 13678 रुपये जमा कराने की बात बोली.

मामले में की शिकायत

इस पर अर्पित ने शातिर के मंसूबे को भांप लिया. उसने रुपये जमा कराने से साफ इनकार कर दिया. शातिर ने गालियां देना शुरु कर दिया. इससे परिजनों को साफ हो गया कि उनके साथ फ्रॉड हुआ है. मामले में अर्पित कंप्लेन लेकर सीओ हरीपर्वत के पास पहुंचे. यहां से मामला साइबर सेल भेजा गया. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

बढ़ते जा रहे हैं मामले

पिछले कुछ समय से वॉलेट से रकम उड़ा लेने के मामलों में बढ़ोत्तरी हुई है. साइबर के शातिरों ने अलग-अलग तरीकों से लोगों को जाल में फंसाना शुरु किया है. कई बार लोगों का ओटीपी जानकर अकाउंट हैक करने के मामले प्रकाश में आए हैं. शातिर प्रोसेसिंग एक्टीवेट करने के नाम ओटीपी भेजते हैं. नंबर बताते ही अपने मोबाइल पर आपका अकाउंट एक्टिवेट कर लेते हैं. सबसे अधिक मामले कॉल करके पेटीएम फ्रॉड के हैं.