- थाना हरीपर्वत में तैनात महिला सिपाही के परिचित पर आरोप

- एसएसपी ने मामले की जांच थाना हरीपर्वत को सौंपी

आगरा. हरीपर्वत क्षेत्र निवासी युवक ने थाना हरीपर्वत में तैनात एक महिला सिपाही सहित तीन पर साजिश के तहत रुपये हड़पने का आरोप लगाया है. शातिरों ने इस युवक से ही नहीं बल्कि कई पुलिसकर्मियों को भी अपना निशाना बनाया. किसी ने भाई तो किसी ने भतीजे की नौकरी के नाम पर हजारों-लाखों रुपये दे दिए, लेकिन नौकरी नहीं लगी. पीडि़त ने एसएसपी कार्यालय में मामले की शिकायत. थाना हरीपर्वत में मामले की जांच चल रही है.

ट्यूशन पढ़ाने आया था बच्चों को

नगला भोला गधापाड़ा निवासी युवक रोजगार की तलाश में था. उसे थाना हरीपर्वत के पीछे बने क्वार्टर में एक महिला सिपाही के यहां बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने का काम मिल गया. महिला सिपाही ने उसे एक युवक व युवती से मिलवाया. युवक टूंडला का रहने वाला है. युवक ने रेलवे में नौकरी लगवाने का भरोसा दिया. महिला सिपाही के परिचित होने के चलते भरोसा भी हो गया. लोगों ने अपने द्वारा पूर्व में लगवाई गई नौकरियों के बारे में भी बताया.

रुपयों का इंतजाम कर दिया

युवक ने 65 हजार रुपये का इंतजाम कर महिला कान्स्टेबल व दो अन्य को दिए. शातिरों ने अन्य लोगों से भी रुपये ले लिए. काफी दिन गुजर जाने पर भी किसी की नौकरी नहीं लगवाई. 28 मार्च को फोन पर जानकारी मांगी, तो युवक ने पुलिस से शिकायत न करने की बात कही. दो दिन में रुपये वापस करने का भरोसा दिया. 31 मार्च को कॉल किया तो इनकार कर दिया. जान से मारने की धमकी दी. महिला साथी द्वारा बलात्कार के झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी.

रुपया लौटाने का लिखा पत्र

पीडि़त के मुताबिक शातिर युवक ने रुपया वापस करने के लिए नौ अप्रैल को पत्र लिखा. दो दिन के अंदर सभी का रुपया वापस देने की कही, लेकिन नहीं दिया. शातिर ने पुलिस को भी नहीं बख्सा. शातिर ने थाना हरीपर्वत के ही तीन से चार पुलिसकर्मियों का रुपया ले लिया. इस लिस्ट में एसपी सिटी ऑफिस व एसएसपी ऑफिस में तैनात पुलिसकर्मियों के होने की बात भी निकल कर आ रही है. पीडि़त ने मामले में एसएसपी से शिकायत की थी. मामले की जांच थाना हरीपर्वत भेजी गई है. पीडि़त की माने तो शातिरों ने दो दर्जन से अधिक लोगों को चूना लगाया है.