देहरादून

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में एक गांव है खलाड़ी। स्थानीय भाषा में यह खिलाड़ी का अपभ्रंश है। खिलाड़ी गांव में रहने वाले अंकित सिंह रावत ने क्रिकेट टीमों में स्थानीय युवाओं का सैटिंग से चयन कराने के नाम पर बड़ी धोखेबाजी कर डाली.इस खेल में उसका भाई और पिता भी साथ बताए जाते हैं। क्रिकेट में चयन के नाम पर ठगी के इस खेल की शिकायत पुलिस मुख्यालय तक पहुंची। डीजी लॉ एंड आर्डर के निर्देश पर एक्शन शुरू हुआ तो देहरादून और उत्तरकाशी में दो एफआईआर भी दर्ज हो गई, लेकिन धोखेबाजी का यह खिलाड़ी अभी फरार है।

उत्तरकाशी के खलाड़ी गांव का अंकित रावत धोखेबाजी का इतना बड़ा खिलाड़ी निकला कि दर्जनों परिवारों के ऐसे युवा बेटों को शिकार बनाया जो क्रिकेट में करियर बनाना चाहते हैं। किसी को आईपीएल तो किसी को रणजी टीम में चयन के नाम पर करोड़ों रूपए ठग लिए। एक के बाद एक ठगी के शिकार होते युवाओं का मामला पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के पास पहुंचा। डीजी अशोक कुमार ने इन मामलों की एफआईआर के निर्देश दिए। दोनों भाईयों के खिलाफ उत्तरकाशी के मोरी और देहरादून में रायवाला में 81 लाख रुपए ठगने की दो एफआईआर जो दर्ज हो चुकी हैं, लेकिन इनकी ठगी का आंकड़ा इससे कहीं अधिक बड़ा है। धोखेबाजी खिलाड़ी भाईयों के खिलाफ दर्जनों परिवार ठगी की एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी में है।

दून के डालनवाला से चलता था ठगी का खेल:

अंकित सिंह रावत ने देहरादून के डालनवाला एरिया में 17 चंदर रोड पर आरे विला डालनवाला.एक आलीशान बिल्डिंग में किराए से फ्लैट ले रखा था। यहीं से वह ठगी का गोरखधंधा चला था। एक समय शहर में मसूरी की तलहटी में बनी क्रिकेट एकेडमी से जुड़े होने के कारण उसे क्रिकेट के बारे में जानकारी थी। पिछले वर्ष उत्तरकाशी के पुरोला में ही उसने खेल टूर्नामेंट कराया था। समापन समारोह में युवराज सिंह को गेस्ट बनाया तो लोगों की नजर में उसकी नामी क्रिकेटर्स से जुड़े होने की इमेज बन गई और इसी का फायदा उठाकर लोगों को ठगना शुरू कर दिया।

क्रिकेट चयन कमेटी के पदाधिकारियों का नाम लेकर ठगी:

इन धोखेबाज भाईयों ने ठगी का जाल पिछले वर्ष से शुरू किया। सबसे पहले पुरोला में खेल प्रतियोगिता में युवराज सिंह को बुलाया। फिर जब उत्तराखंड क्रिकेट को बीसीसीआई ने मान्यता दी। पहली बार उत्तराखंड़ से रणजी की टीम बनी और आईपीएल में भी उत्तराखंड़ के ऋषभ पंत का चयन हुआ। इन्हीं खिलाडि़यों के सिलेक्शन में खुद की भूमिका बता जूनियर खिलाडि़यों की आंखों पर धोखे का चश्मा चढ़ा एक के बाद एक युवाओं को धोखे के जाल में फांसते चले गए। क्रिकेट में करियर बनाने के इच्छुक प्लेयर अपने घर वालों से जिद कर लाखों रूपए देते गए और अंकित उन्हें लूटता गया.एक प्लेयर के जरिए दूसरा, फिर तीसरा और ऐसा करते करते प्रदेश के कई परिवारों के बेटों को क्रिकेट की दुनिया का चमकता सितारा बनाने का झांसा देकर ठग रहा था।

दो एफआईआर दर्ज : डीजी अशोक कुमार के इंटरफेयर के बाद अंकित रावत उसके भाई और पिता के खिलाफ क्रिकेट टीम में चयन का झांसा देकर ठगी की दो एफआईआर हो चुकी है। पहली एफआईआर उत्तरकाशी के पुरोला में भेड पालक हाकम सिंह ने अपने दो बेटों को आईपीएल में चयन कराने के नाम पर 70 लाख ठगने की और दूसरी देहरादून के राजेन्द सिंह ने अपने बेटे को रणजी टीम में चयन कराने का झांसा देकर 11 लाख ठगने की एफआईआर दर्ज कराई है।

दर्जनों भटक रहे: क्रिकेट में चयन के नाम पर ठगी के शिकार दर्जनों युवा अभी भी भटक रहे हैं। महाराणा प्रताप स्पोटर्स कॉलेज देहरादून के स्टूडेंट रहे कपिल न भी 3 लाख की ठगने का आरोप लगाया है। इसके अलावा भी अकेले देहरादून में करीब 10 से अधिक युवा धोखेबाज खिलाड़ी की ठगी के शिकार हैं। डीजी लॉ एंड आर्डर अशोक कुमार ने प्रदेश के सभी जिलों में प्रभारी पुलिस अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं कि यदि किसी व्यक्ति के साथ धोखाधड़ी होती है, तो तत्काल उस पर कार्यवाही करते हुए मुकदमा दर्ज किया जाए। साथ ही जनता से अपील है कि धोखाधड़ी करने वालों से डरे नहीं। शिकायत लेकर सीधे पुलिस के पास आएं। धोखेबाजों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कठोर कार्यवाही की जाएगी।

युवराज सिंह को बुलाया था उत्तराखंड:

11 मार्च 2018 को अंकित ने पुरोला में एक खेल प्रतियोगिता का आयोजन कराया था। जिसके इनाग्रेशन में युवराज सिंह को बुलाया था। इस कार्यक्रम के बाद अंकित ने क्षेत्र के लोगों में खुद की क्रिकेटर्स में बड़ी पहुंच का हौव्वा बनाया था.उत्तराखंड क्रिकेट से जुडे रत्नाकर शेट्टी, ईश्वरन और महीम वर्मा से अपने करीबी रिश्तों का झांसा देकर ठगता था। जबकि इन सबने अंकित को पहचानने तक से इनकार कर दिया।

इनका कहना:

क्रिकेट टीम में चयन या फिर अन्य किसी तरह का धोखा देकर लोगों को ठगने वालों के खिलाफ प्रदेश भर में सभी पुलिस अधिकारियों को सख्ती से निपटने के निर्देश दिए गए हैं। ठगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। लोगों से अपील है कि वे धोखेबाजों के चक्कर में न आए:

अशोक कुमार डीजी, लॉ एंड आर्डर रत्‍‌नाकर शेट्टी, बीसीसीआई का स्टेट कॉडिनेटर